1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

"संवेदनशील मुद्दों का ख्याल रखे चीन"

चीन की ओर से कश्मीर के लोगों को नत्थी वीजा देने और भारत की दूसरी चिंताओँ की तरफ ध्यान देने की मांग प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने चीन के प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ से मुलाकात में रखी है. हनोई में दोनों नेता मिले.

default

हनोई में हुई मुलाकात

दुनिया में तेजी से उभरते दो देशों के नेताओं की मुलाकात में इस बात पर सहमति बनी कि मुश्किल समस्याओं के हल तलाशे जाएं. बैठक में दोनों ने साफ कहा कि दुनिया बहुत बड़ी है और उनके विकास के लिए पर्याप्त संसाधन मौजूद हैं. इसके साथ ही दोनों के बीच आपसी सहयोग की भी पूरी गुंजाइश है. सहयोग की राह पर आगे बढ़ने के लिए चीनी प्रधानमंत्री इसी साल दिसंबर में भारत की यात्रा भी करेंगे.

हनोई में आसियान देशों की बैठक के मौके पर हुई 45 मिनट की इस मुलाकात में इस बात पर भी रजामंदी हुई की दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधियों की इस महीने के अंत में मुलाकात होगी और मुश्किल मामलों के हल पर चर्चा की जाएगी. इन मुश्किल मामलों में सीमा विवाद भी शामिल है. भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकर शिव शंकर मेनन ने मनमोहन-वेन की मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा, "प्रधानमंत्री ने सभी मुश्किल सवालों को उठाया और एक दूसरे के प्रति संवेदनशील होने को कहा. उन्होंने दोनों देशों को एक दूसरे की चिंताओं के प्रति संवेदनशीलता को मौजूदा वक्त की जरूरत बताया."

जुलाई में रक्षा संबंधों को निलंबित किए जाने के बाद दोनों देशों के बीच बड़े स्तर की यह पहली बातचीत रही. सुरक्षा सलाहकार ने प्रमुख मुद्दों के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब नहीं दिया. लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला है कि यह मामला जम्मू कश्मीर से जुड़ा हो सकता है. चीन जम्मू कश्मीर के लोगों को भारतीय पासपोर्ट की जगह नत्थी किए हुए कागज पर वीजा देता है. भारत इस प्रक्रिया को अपनी संप्रभुता पर चोट मानता है.

इस साल यह मामला तब और बड़ा बन गया, जब चीन ने भारतीय सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल बीएस जायसवाल को भी यही नत्थी वीजा देने की पेशकश कर दी. नतीजा यह हुआ कि जायसवाल ने वीजा लेने से इनकार कर दिया. भारत ने इसके जवाब में दोनों देशों के बीच रक्षा संबंधों को निलंबित कर दिया और कहा कि यह तब तक जारी रहेगा जब तक चीन अपने रवैये में सुधार नहीं लाता.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links