1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

संबंधों पर घोटाले का साया

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन भारत दौरे पर हैं. इटली की कंपनी फिनमेकैनिका के साथ हैलिकॉप्टर समझौते में भ्रष्टाचार का मामला दोनों देशों के बीच बहस के मुख्य मुद्दों में से है.

भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि उन्होंने कैमरन से हैलिकॉप्टर समझौते पाने के लिए फिनमेकैनिका के गलत तरीकों के इस्तेमाल के बारे में बात की है. कैमरन ने अपनी तरफ से भारत को अपना पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया है. हाल ही में इटली की कंपनी फिनमेकैनिका की शाखा आगस्टा वैस्टलैंड पर आरोप लगे हैं कि उसने 2010 में भारत से हैलिकॉप्टर डील पाने के लिए रिश्वत दी. आगस्टा वेस्टलैंड ब्रिटेन में हैलिकॉप्टर बनाती है. पिछले हफ्ते इटली में फिनमेकैनिका के प्रमुख को इस सिलसिले में गिरफ्तार किया गया.

कैमरन ने भारत में प्रेस को बताया कि वह इस बात से खुश हैं कि इटली के अधिकारी मामले की गंभीरता से जांच कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में भी रिश्वतखोरी के खिलाफ कानूनों को बहुत सख्त किया है. भारतीय न्यूज चैनल एनडीटीवी से बातचीत के दौरान ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा कि मामला भारत और इटली के बीच का है लेकिन जांच के दौरान ब्रिटेन भारत की पूरी मदद करेगा.

हैलिकॉप्टर डील में रिश्वतखोरी के अलावा दोनों देशों ने आपसी व्यापार को बढ़ाने और इस क्षेत्र में सहयोग को गहरा करने पर बातचीत की. कैमरन तीन दिन के लिए 100 लोगों की टीम के साथ भारत आए हैं. मुंबई में उन्होंने कहा कि भारतीय निवेशकों के लिए एक ही दिन में वीजा देने की तैयारी चल रही है. उन्होंने कहा, "जिस तेजी से भारत बढ़ रहा है, उसे एक ऐसा सहयोगी चाहिए जो उसकी महत्वाकांक्षा को सहारा दे सके, मूलभूत संसाधनों में, ऊर्जा में, स्वास्थ्य में और कई क्षेत्रों में. ब्रिटेन यह सारी चीजें कर सकता है."

पिछले साल ब्रिटेन और भारत के बीच व्यापार 16 अरब डॉलर था. 2015 तक इसे 30 अरब डॉलर तक लाने की कोशिश की जाएगी. कैमरन दिल्ली में भी भारतीय व्यापारियों की एक बैठक को संबोधित करेंगे. कैमरन इससे पहले 2010 में भारत आए. माना जा रहा है कि दोनों देशों के प्रतिनिधि आतंकवाद निरोध और स्थानीय सुरक्षा पर भी बात करेंगे.

एमजी/ओएसजे(एएफपी,एपी,डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री