1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

श्टाइनमायर होंगे जर्मन राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

चांसलर अंगेला मैर्केल की सत्ताधारी सीडीयू और सीएसयू पार्टियां विदेश मंत्री फ्रांक वाल्टर श्टाइनमायर को राष्ट्रपति चुनने के लिए तैयार हैं. एसपीडी के श्टाइनमायर सत्तापक्ष के संयुक्त उम्मीदवार होंगे और जीत पक्की है.

रविवार शाम को सरकार में शामिल तीनों पार्टियों के नेताओं की बैठक हुई थी जिसमें एसपीडी प्रमुख और उपचांसलर जिगमार गाब्रिएल के प्रस्ताव पर चर्चा हुई लेकिन आखिरी फैसला नहीं हो पाया. सोमवार सुबह पार्टी कार्यकारिणी की टेलिफोन चर्चा के बाद चांसलर मैर्केल की सीडीयू ने श्टाइनमायर को समर्थन देने की घोषणा की. सीएसयू नेता और बवेरिया के मुख्यमंत्री हॉर्स्ट जेहोफर ने भी म्यूनिख में श्टाइनमायर के नाम पर सहमति की घोषणा की.

जर्मनी के राष्ट्रपति चुनाव अगले साल फरवरी में होने वाले हैं. सीडीयू और सीएसयू के समर्थन के बाद अब श्टाइनमायर 12 फरवरी को होने वाले चुनाव के पहले चरण में जीतने की संभावना है. सीडीयू, सीएसयू और एसपीडी पार्टियों को राष्ट्रपति चुनने वाले निर्वाचक मंडल में बहुमत है. इसमें संसद और राज्य विधान सभा के सदस्यों के अलावा पार्टियों के सांसदों और विधायकों की संख्या के अनुपात में उतनी ही संख्या में गणमान्य प्रतिनिधि होते हैं. मौजूदा राष्ट्रपति योआखिम गाउक ने बढ़ती उम्र के कारण दूसरा कार्यकाल लेने से इंकार कर दिया था.

अंतिम फैसला

हालांकि विदेश मंत्री श्टाइनमायर लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं लेकिन पिछले दिनों उनके नाम पर विवादपूर्ण बहस होती रही है. खासकर सरकार में शामिल होने के बावजूद एसपीडी और सीएसयू के बीच कई मुद्दों पर बहुत मतभेद हैं. समाचार एजेंसी डीपीए के अनुसार अंतिम फैसला श्टाइनमायर और सीएसयू नेता जेहोफर के बीच हुई एक गोपनीय बैठक में लिया गया. पिछले हफ्ते बुधवार को श्टाइमायर जेहोफर से मिले थे और उसके बाद ही बवेरिया के मुख्यमंत्री ने श्टाइमायर का समर्थन करने का फैसला किया.

Koalitionsgespräche Seehofer Merkel Gabriel (picture-alliance/dpa/W. Kumm)

जेहोफर, गाब्रिएल और मैर्केल

सीएसयू पार्टी लंबे समय तक सहोदर सीडीयू पर खुद अपना उम्मीदवार लाने के लिए दबाव डाल रही थी. उसकी दलील थी कि निर्वाचक मंडल में उनका घटक सबसे बड़ा है. लेकिन ऐसे में सबसे बड़ी आशंका एसपीडी के गठबंधन से बाहर निकलने और ग्रीन पार्टी तथा वामपंथी डी लिंके के साथ संयुक्त उम्मीदवार लाने का खतरा था. फैसले के बाद सीएसयू के महासचिव ने श्टाइनमायर को अच्छा उम्मीदवार बताते हुए इस पर भी जोर दिया है कि ग्रीन पार्टी के फ्लर्ट को रोक दिया गया है.

विपक्ष की रणनीति

अब विपक्षी ग्रीन और डी लिंके को राष्ट्रपति चुनावों में अपनी रणनीति के बारे में सोचना होगा. ग्रीन पार्टी की अभी अभी कांग्रेस खत्म हुई है और पार्टी नेता अभी भी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के बारे में चर्चा कर रहे हैं. ग्रीन पार्टी के प्रमुख सिमोने पेटर ने कहा है कि श्टाइनमायर आदरणीय शख्सियत हैं लेकिन वे ग्रीन पार्टी द्वारा इच्छित सभी पार्टियों को स्वीकार्य उम्मीदवार नहीं हैं. उन्होंने इस बात पर खुशी जाहिर की गठबंधन ने आखिरकार फैसला ले लिया है.

प्रमुख विपक्षी पार्टी डी लिंके ने पहले ही श्टाइनमायर की उम्मीदवारी को खारिज कर दिया था. इसलिए उनका समर्थन करने की संभावना कम है. वह अब स्वयं अपना उम्मीदवार लाएगी. पार्टी नेतृत्व के अनुसार इसका मकसद यह संकेत देना है कि सामाजिक मदों और कटौतियों और युद्ध में तैनाती का विकल्प है. पार्टी की संसदीय दल की नेता सारा वागेनक्नेष्ट का कहना है कि इस फैसले के साथ एसपीडी की चांसलर पर रणनैतिक जीत जरूर हुई है लेकिन यह सामाजिक नीति के लिए फायदेमंद फैसला नहीं है. श्टाइनमायर का नाम सामाजिक मदों में कटौती वाले एजेंडा 2010 के साथ जुड़ा है.

राष्ट्रपति योआखिम गाउक फरवरी 2012 में देश के राष्ट्रपति चुने गए थे. वे सीडीयू, सीएसयू, एसपीडी, एफडीपी और ग्रीन पार्टियों के संयुक्त उम्मीदवार थे और पहले ही चक्र में विशाल बहुमत से चुनाव जीत गए थे. 76 वर्षीय गाउक ने उम्र की वजह से फिर से चुनाव न लड़ने का फैसला किया है.

एमजे/ओएसजे (डीपीए, एएफपी)

संबंधित सामग्री