1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शोक के बीच जिंदगी की किलकारी

रात में एक महिला तैरते हुए अपनी मां को आवाज देती रही लेकिन मां का पता नहीं चला. इस बीच बेटी भी मौत के मुंह में जा पहुंची. लेकिन कोख में पल रही एक जिंदगी ने उस महिलास को हैयान जैसे तूफान और मौत को हराने की ताकत दी.

हैयान से सबसे ज्यादा प्रभावित इलाके ताकलोबान में सोमवार सुबह पहली बार कुछ चेहरों पर मुस्कुराहट दिखी. मलबे के बीच लगाए गए आर्मी हॉस्पिटल में एक बच्ची ने जन्म का जन्म हुआ. बच्ची को आस पास मौजूद लोगों ने 'मिरैकल' यानी चत्मकार कहा. बच्ची का जन्म ऐसे वक्त में हुआ जब उसकी मां करीब करीब मौत के मुंह में थी.

21 साल की एमिली सागालिस की मां तूफान के साथ बह गईं. अपनी मां को ढूंढने के लिए एमिली रात के अंधेरे में पानी में तैरते हुए चिखती, चिल्लाती रही. इसी दौरान खुद एमिली की हालत बेहद खराब हो गई. सोमवार सुबह प्रसव पीड़ा के बावजूद एमिली अपने पति के साथ कई किलोमीटर पैदल चली. तभी एक ट्रक ने उन्हें लिफ्ट दी और सेना के अस्पताल पहुंचाया. टैंट में चल रहे अस्पताल में सोमवार सुबह एमिली ने एक बच्ची को जन्म दिया. तूफान के बाद यह पहला मौका था जब कुछ लोगों के चेहरे पर मुस्कान लौटी.

एमिली ने बच्ची का नाम अपनी मां के नाम पर रखा है. बिटिया को जन्म देने के बाद एमिली ने कहा, "ये कितनी सुंदर है. मैं मां को याद करते हुए इसे बिए जोए नाम दिए दूंगी. " बच्ची खतरे से बाहर है, जबकि एमिली की सेहत अब भी गंभीर बनी हुई है.

प्रसव पीड़ा के दौरान एमिली के पति जॉबर्ट हाथ में ग्लूकोज और दवाओं की ड्रिप लेकर खड़े रहे. बिटिया के पैदा होते हुए उनकी आंखें भर आई. जॉबर्ट ने कहा, "मेरे लिए वह चत्मकार है. जब ऊंची लहरें आईं और हमें बहाते हुए ले गई तो मुझे लगा कि वो एमिली के पेट में ही मर जाएगी. हम आज जश्न मनाना चाहते हैं लेकिन जो मारे गए हैं उनके शोक के बीच ये कैसे किया जाए."

Philippinen Taifun Haiyan 10.11.2013

जगह जगह बिखरे शव

तमाम दुखों के बावजूद एमिली और जॉबर्ट की गिनती उन भाग्यशाली लोगों में हो रही है जो जिंदा बच गए. राहत कैंपों तक कई ऐसे बच्चे पहुंचे हैं जिनके माता पिता लापता है. किसी के परिवार के 11 सदस्य लापता हैं, तो किसी को अपना एक भी पड़ोसी या रिश्तेदार नहीं दिखाई पड़ रहा. आशंका है कि हैयान तूफान की वजह से फिलीपींस में हजारों लोग मारे गए हैं. सिर्फ ताकलोबान शहर में ही 10,000 लोगों की मौत की आशंका है. फिलीपींस की सेना और अंतरराष्ट्रीय राहतकर्मी अभी शहरों तक ही पहुंच सके हैं. दूर दराज के इलाकों और गांवों में कितना नुकसान हुआ है इसकी जानकारी अभी भी नहीं मिल पा रही है.

फिलीपींस में तबाही मचाने के बाद अब तूफान विएतनाम से गुजरता हुआ दक्षिणी चीन पहुंचा है. तूफान की ताकत अब भी बरकरार है. 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही हवाएं भारी बारिश कर रही हैं.

ओएसजे/ (एएफपी, एपी)

DW.COM