1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

शूमाखर की पत्नी बोलीं हमें अकेला छोड़ दो

मिषाएल शूमाखर के परिवार ने मीडिया और प्रशंसकों से अपील की है कि वे इस समय डॉक्टरों को इलाज करने के लिए छोड़ दें. डॉक्टर भी अब फॉर्मूला वन चैंपियन की सेहत से जुड़ी जानकारी साझा नहीं करेंगे.

स्की दुर्घटना में गंभीर रूप से जख्मी शूमाखर की पत्नी कोरिना शूमाखर ने मीडिया से गुजारिश की है कि वह डॉक्टरों और परिवार के सदस्यों को अकेला छोड़ दें. कोरिना ने मीडिया और जनता से आग्रह किया कि परिवार और डॉक्टरों को शांति से काम करने में मदद करें. शूमाखर की प्रवक्ता के जरिए उनकी पत्नी कोरिना ने एक बयान जारी कर कहा, "शूमाखर के लिए हमारे संघर्ष का समर्थन करें. हमारे लिए यह जरूरी है कि आप डॉक्टर और अस्पताल को अकेला छोड़ दें, ताकि सभी शांति के साथ काम कर सके. आप अस्पताल के बयान पर विश्वास करें और अस्पताल छोड़ दें." लंबे वक्त से मीडिया की फौज फ्रांस के उस अस्पताल में जमी है, जहां शूमाखर का इलाज हो रहा है.

फ्रांस की आल्प पहाड़ियों में स्की करते हुए शूमाखर घायल हो गए थे. उनका इलाज ग्रेनोबेल अस्पताल में 29 दिसंबर से चल रहा है. डॉक्टरों ने अब तक दो बार शूमाखर का ऑपरेशन किया लेकिन अब भी उन्हें कृत्रिम कोमा में रखा गया है. एक दिन पहले शूमाखर का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कहा था कि शूमाखर की हालत स्थिर लेकिन अब भी नाजुक है. शूमाखर की तबीयत की गोपनीयता को बनाए रखने के लिए डॉक्टरों ने यह बयान जारी किया. फिलहाल डॉक्टर उनकी सेहत से जुड़ी जानकारी या फिर सेहत में सुधार को लेकर कोई बयान जारी नहीं करेंगे. शूमाखर की प्रवक्ता ने कहा है कि कोरिना की तरफ से कोई और बयान नहीं आएगा.

हादसे के समय शूमाखर हेलमेट पहने हुए थे और उस हेलमेट में एक कैमरा लगा था. जांचकर्ताओं के मुताबिक कैमरे की मदद से जांच में आसानी होगी. जांच से जुड़े एक सूत्र का कहना है, "यह एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है." हालांकि यह बात अब तक साफ नहीं हो पाई है कि हादसे के वक्त कैमरा काम कर रहा था या नहीं. इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि कैमरे में कैद वीडियो स्पष्ट है या नहीं.

फ्रांसीसी जांचकर्ता दुर्घटना के लिए जिम्मेदार स्थिति का पता लगा रहे हैं. उनका ध्यान यह जानने में है कि हादसे के समय शूमाखर की रफ्तार कितनी होगी. इसके साथ ही स्पीड लिमिट की भी जांच हो रही है. जांचकर्ता यह जानना चाहते हैं कि शूमाखर के जिस्म में लगे सुरक्षा यंत्र ठीक से काम कर रहे थे या नहीं.

एए/एजेए (एपी,रॉयटर्स)

DW.COM