1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

शूमाखर अब स्थिर हालत में

नए साल का पहला दिन फॉर्मूला वन ड्राइवर मिषाएल शूमाखर के लिए थोड़ा अच्छा रहा. अब उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है. फ्रांस की पहाड़ियों में बर्फ में हुए हादसे के बाद वह जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे हैं.

फ्रांसीसी शहर ग्रेनोबेल में शूमाखर का इलाज चल रहा है. उनकी मैनेजर सबीने केम ने अस्पताल के बाहर बताया कि उनकी स्थिति "स्थिर" है, "इस सुबह उनकी हालत वैसी ही बनी हुई है. फिलहाल यह अच्छी खबर है लेकिन मैं इससे ज्यादा कुछ नहीं कहना चाहती क्योंकि वह जल्दबाजी होगी. वह अभी भी कृत्रिम कोमा में हैं."

तीन जनवरी को 45 साल के हो रहे मिषाएल शूमाखर रविवार को उस वक्त घायल हो गए, जब फ्रांस की आल्प पहाड़ियों में स्की करते समय वह गिर गए और उनका सिर एक पत्थर से टकरा गया. उन्हें बुरी हालत में हेलिकॉप्टर से ग्रेनोबेल के अस्पताल लाया गया, जहां विशेषज्ञ डॉक्टरों ने दो बार उनके दिमाग का ऑपरेशन किया है. उन्हें खास तौर पर कोमा में रखा गया है, ताकि उनके दिमाग पर कम जोर पड़े.

हेलमेट दो टुकड़े

केम ने बताया कि उनका परिवार अब भी उनके साथ है और उनकी सेहत में बेहतरी की दुआ कर रहा है. शूमाखर की मैनेजर ने साफ किया कि डॉक्टरों की तरफ से अब दिन भर किसी तरह का अपडेट नहीं दिया जाएगा. इससे पहले डॉक्टरों ने कहा था कि सिर्फ जरूरी पड़ने पर ही वे मीडिया के सामने आएंगे.

Michael Schumacher Beraterin Pressesprecherin Sabine Kehm 1. Januar 2014

शूमाखर की मैनेजर सबीने केम

शूमाखर की कुछ पुरानी तस्वीरों में उन्हें बिना हेलमेट के बर्फ में स्की करते देखा जा सकता है. लिहाजा इस घटना के बाद जोर देकर कहा जा रहा है कि शूमाखर ने हादसे के वक्त हेलमेट लगा रखी थी. समाचार एजेंसी एएफपी ने एक सूत्र के हवाले से खबर दी है कि "हादसा इतना जबरदस्त था कि शूमाखर का हेलमेट दो हिस्सों में टूट गया". डॉक्टरों ने पहले ही कहा है कि अगर शूमाखर ने हेलमेट नहीं लगा रखी होती, तो उनके बचने की गुंजाइश नहीं थी. केम के मुताबिक शूमाखर अपने दोस्तों और 14 साल के बेटे मिक के साथ स्की कर रहे थे.

पत्रकार बना पादरी

इस बीच मीडिया का कौतूहल शूमाखर के बारे में ज्यादा जानकारी लेने के लिए अपनी तरकीबें लगा रहा है. एक पत्रकार पादरी बन कर सात बार के फॉर्मूला वन ड्राइवर के नजदीक पहुंचने की कोशिश करने लगा, हालांकि वक्त पर उसकी पहचान हो गई. केम ने बताया, "एक शख्स था, जो पादरी के पहनावे में मिषाएल के पास पहुंचने की कोशिश कर रहा था. मैं सभी से कह रही हूं कि वे डॉक्टरों को काम करने दें और परिवार को मिषाएल के साथ चैन से रहने का वक्त दें." जब उनसे पूछा गया कि क्या पादरी वाकई पत्रकार था, तो मैनेजर ने कहा, "मुझे ऐसा ही बताया गया है. हमने देखा है कि लोग प्रेस के कमरे से निकल कर वहां तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, जो सही नहीं है."

एजेए/एमजे (डीपीए, एपी, एएफपी)

DW.COM