1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शाही परिवार में नया दौर

ब्रिटेन के नए राजकुमार को गोद में लिए जब उसकी मां अस्पताल की सीढ़ियों से उतरी, तो पूरी दुनिया ने इस क्षण को कैद करने की कोशिश की. महारानी के लिए यह खुशियों का लगातार तीसरा साल रहा.

केट और विलियम की 2011 में शादी के बाद से ही ब्रिटेन के शाही घराने में बदलाव शुरू हुआ, जो इस परिवार के लिए अच्छा साबित होता गया. पिछले साल महारानी ने सत्ता हासिल करने की डायमंड जुबली (60 साल) मनाई और अब तख्त के तीसरे वारिस के आने के साथ इन खुशियों में और इजाफा हुआ है.

शाही परिवार की जीवनी लिखने वाली सारा ब्रैडफोर्ड का कहना है, "महारानी शादी के बाद से ही बहुत ज्यादा खुश नजर आ रही हैं. मैं समझती हूं कि वह जिस पड़ाव पर थीं, उन्हें इसकी बहुत जरूरत थी. खास बात यह है कि प्रिंस विलियम बेहद लोकप्रिय हैं और केट किसी तरह के स्कैंडल में नहीं फंसी हैं."

Queen beim Pferderennen in Ascot

बरसों बाद खुश हैं महारानी

अलोकप्रियता के साल

पिछले कुछ दशक ब्रिटेन के शाही परिवार के लिए मुश्किल रहे. 1980 और 1990 के दशक में राजघराने की लोकप्रियता बेहद नीचे गिरी. महारानी एलिजाबेथ के लिए 1992 का साल भी दुख भरा रहा, जब उनकी इकलौती बेटी राजकुमारी एन ने तलाक ले लिया और तीन में से दो बेटों ने भी पत्नियों से अलग होने का फैसला किया.

प्रिंस विलियम के पिता प्रिंस चार्ल्स अपनी पत्नी राजकुमारी डायना से अलग हो गए, जबकि दूसरे बेटे प्रिंस एंड्रयू ने डचेज ऑफ यॉर्क को तलाक दे दिया. इसके बाद 1997 का साल तो इस परिवार के लिए सबसे मुश्किल और अलोकप्रियता का रहा, जब राजकुमारी डायना पेरिस में एक कार हादसे में मारी गईं.

इसके बाद आम लोगों ने खुल कर अपनी बात कही और इसके लिए कुछ हद तक प्रिंस चार्ल्स को जिम्मेदार ठहराया. उनका मानना था कि दूसरी औरत कामिला पार्कर की वजह से चार्ल्स ने डायना को तलाक दिया. कामिला को शाही परिवार की शादी तोड़ने वाली औरत समझा गया. यहां तक कि कुछ जगहों पर तो यह भी खबर चली कि महारानी एलिजाबेथ के पति प्रिंस फिलिप ने डायना की "हत्या के आदेश" दिए.

Bildergalerie Prinzessin Diana Lady Diana England Großbritannien

राजकुमारी डायना का अद्भुत सौंदर्य

राजघराने में गम

शाही पत्रिका से जुड़ी पत्रकार मार्सिया मूडी का कहना है, "वे 1990 के दशक में जाहिर तौर पर बेहद खराब दौर से गुजरे." लेकिन बाद में स्थिति धीरे धीरे ठीक होने लगी. जब 2010 में केट और विलियम की सगाई हुई, तो कामिला को भी लोगों ने स्वीकार करना शुरू कर दिया. मूडी का कहना है, "इन सबके अलावा इसमें बहुत ज्यादा मानवीय पक्ष है. हर कोई शादी और बच्चे को पसंद करता है, जो परिवार में खुशियां लाते हैं."

लेकिन खुशियों के बाद गंभीर सवाल. हालांकि 87 साल की उम्र में भी महारानी चुस्त दुरुस्त दिखती हैं लेकिन कई लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या वह अपनी जिम्मेदारियां लंबे वक्त तक निभाने को तैयार हैं.

क्या सत्ता छोड़ेंगी रानी

बेल्जियम और नीदरलैंड्स के शाही परिवारों ने हाल ही में अपनी सत्ता अपने जीते जी वारिसों को सौंप दी है लेकिन ब्रिटेन में इससे जुड़ी कड़वी यादें हैं. ब्रैडफोर्ड का कहना है, "ऐसा नहीं होने वाला है."

Großbritannien Königshaus Thronfolger Prinz Charles Camilla und Königin Elizabeth

प्रिंस चार्ल्स और कामिला पार्कर के साथ महारानी

एलिजाबेथ के पिता जॉर्ज छठे ने 1936 में अचानक गद्दी संभाल ली क्योंकि उनके बड़े भाई एडवर्ड आठवें ने एक अमेरिकी तलाकशुदा महिला से शादी करने के लिए सिंहासन कुर्बान कर दिया. समझा जाता है कि राजघराने में जॉर्ज छठे की 1952 में वक्त से पहले हुई मौत के लिए उनके तनाव को जिम्मेदार माना जाता है.

अगर महारानी बुरी तरह बीमार पड़ गईं या राजकाज चलाने में अक्षम हुईं, तो प्रिंस चार्ल्स शाही तख्त के प्रतिनिधि बनेंगे और राजघराने की जिम्मेदारियां पूरी करेंगे. शाही इतिहास लिखने वाले हूगो वीकर्स का कहना है कि सत्ता छोड़ने से बेहतर यह उपाय है. उन्होंने जॉर्ज तीसरे की मिसाल दी, जो दिमागी संतुलन खो बैठे थे, "लोगों ने 1809 और उनकी मौत यानी 1820 के बीच उन्हें कभी नहीं देखा. वह एक तरह से विंडसर कैसल में कैद थे."

हालांकि महारानी एलिजाबेथ की अपने पति 92 साल के प्रिंस फिलिप के साथ शादी के 66 साल बीत चुके हैं, पर दोनों फिट दिखते हैं.

एजेए/एमजे (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links