1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शायद रूसी फ्लाइट में बम था

अमेरिका और ब्रिटेन को लग रहा है कि इस्लामिक स्टेट या उसके करीबियों ने रूसी विमान को बम से उड़ाया. ब्रिटेन और आयरलैंड ने मिस्री रिजॉर्ट शर्म अल शेख की उड़ानें बंद कीं.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के कार्यालय ने रूसी विमान हादसे पर बयान जारी कर कहा, "हमें चिंता है कि शायद विमान को विस्फोटक डिवाइस के जरिये गिराया गया." एक अमेरिकी अधिकारी ने भी समाचार एजेंसी एएफपी से कहा, "बम की ही सबसे ज्यादा संभावना है. यह कुछ ऐसा है जो आईएस करना चाहेगा." बम रखने वालों ने शर्म अल शेख एयरपोर्ट के कमजोर सुरक्षा तंत्र को चकमा दिया होगा.

सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि विमान से संपर्क टूटने से ठीक पहले सिनाई के ऊपर आकाश में तेज रोशनी चमकी. अमेरिकी और ब्रिटिश अधिकारियों को लग रहा है कि वह रोशनी धमाके से निकली. विमान के दोनों ब्लैक बॉक्स बरामद हो चुके हैं. एक ब्लैक बॉक्स के डाटा में काफी तेज धमाके जैसी आवाज सुनी गई. दूसरा बुरी तरह क्षतिग्रस्त है. उसका डाटा सुनने के लिए काफी मेहनत करनी होगी. 31 अक्टूबर को मिस्र की सिनाई पहाड़ियों में रूसी एयरलाइन मेट्रोजेट का विमान क्रैश हुआ. विमान में सवार सभी 224 लोग मारे गए. हादसे के बाद इस्लामिक स्टेट ने दावा किया कि रूसी विमान को उसने गिराया है.

गुरुवार को लंदन में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल अल-सिसी से मिल रहे हैं. दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय कारोबार के अलावा रूसी विमान हादसे पर भी चर्चा होगी. लाल सागर के मशहूर पर्यटक केंद्र शर्म अल शेख में इस वक्त 20,000 ब्रिटिश टूरिस्ट हैं. ब्रिटेन अपने नागरिकों को वहां से लाने के लिए आपात योजना बना रहा है.

मिस्र और रूस अब तक इस्लामिक स्टेट की भूमिका से इनकार कर रहे हैं. इस्लामिक स्टेट ने दावा किया है कि वह आने वाले दिनों में इस बात के पुख्ता सबूत देगा कि कैसे उनसे एयरबस ए-321 पर हमला किया. अगर यह दावा सच निकला तो इस्लामिक स्टेट द्वारा किसी यात्री विमान को गिराने का यह पहला मामला होगा.

आईएस के नियंत्रण में सीरिया और इराक का बड़ा इलाका है. सीरिया में रूस बीते महीने से इस्लामिक स्टेट और विद्रोहियों पर बमबारी कर रहा है. विमान हादसे ने मॉस्को को काफी हैरान किया है. रूसी एयरफोर्स के कमांडर विक्टर बोंडारेव मान रहे हैं कि आने वाले दिनों में रूस को और निशाना बनाया जा सकता है, "जरा सोचें कि किसी सैन्य विमान को हाईजैक किया जाए और पड़ोसी देश में पहुंचा कर वहां से हम पर हवाई हमला किया जाए. हमें इसके लिए तैयार रहना होगा." ऐसी आशंका के चलते मॉस्को ने एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइलें भी सीरिया भेजने का एलान किया है.

ओएसजे/एमजे (एपी, एएफपी)

DW.COM