1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

शशि थरूर ने कहा, इस्तीफ़ा नहीं देंगे

कोच्ची फ़्रैंचाइज़ी पर उठे विवाद से दबाव झेल रहे विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने स्पष्ट कर दिया कि वह इस्तीफ़ा नहीं देंगे. उन्होंने पद के ग़लत इस्तेमाल से इनकार किया. प्रधानमंत्री और सोनिया गांधी को पूरी जानकारी देंगे.

default

पद के ग़लत इस्तेमाल से इनकार

एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में थरूर ने इस्तीफ़े की संभावना से इनकार किया और ज़ोर देकर कहा कि उन्होंने अपने पद का ग़लत इस्तेमाल नहीं किया है. थरूर ने कहा कि उन्होंने कुछ भी ग़लत नहीं किया है और वह सर उठा कर चलना चाहते हैं. वह इस मामले पर प्रधानमंत्री और सोनिया गांधी को पूरी जानकारी देंगे.

बुधवार को शशि थरूर ने वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी और रक्षा मंत्री एके एंटनी से मिले. दोनों वरिष्ठ मंत्रियों के साथ बैठक को लेकर ज़्यादा जानकारी नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि थरूर ने उन्हें आईपीएल फ़्रैंचाइज़ी में अपनी भूमिका के बारे में बताया है.

विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर को एक धमकी भरा एसएमएस भी मिला है. जब पुलिस ने एसएमएस भेजने वाले नंबर की जांच की तो उन्हें पता चला कि पश्चिम दिल्ली के हरि नगर में रहने वाले जिम प्रशिक्षक माणिक वर्मा के नाम से इसे ख़रीदा गया है. लेकिन पूछताछ के बाद यह बात साफ़ हुई कि वर्मा का इसमें कोई हाथ नहीं है.

शशि थरूर के सहायक को एक एसएमएस मिला जिसमें मुंबई अन्डरवर्ल्ड का हवाला देते हुए कहा गया है कि थरूर को कोच्ची के फ्रैंचाइज़ी में दख़ल नहीं देनी चाहिए. थरूर के सहायक अधिकारी जैकब जोसफ ने बताया कि माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम के गुर्गों ने थरूर को धमकी दी है.

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता राजन भगत ने कहा है कि थरूर के दफ़्तर से आई शिकायत के बाद मामले की तहकीकात शुरू कर दी गई है.

मामले को तूल पकड़ता देख कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ कांग्रेस नेताओं के एक बैठक की जिसमें गुरुवार को शुरू हो रहे बजट सत्र के लिए रणनीति चर्चा की. ब्रिक देशों के सम्मेलन में हिस्सा ले रहे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि अगर थरूर के खिलाफ सबूत मिलते हैं तो विदेश से लौटने के बाद कार्रवाई करेंगे.

विपक्षी पार्टियां बीजेपी और वामंथी दलों ने थरूर के इस्तीफे की मांग की है. बीजेपी के नेतृत्व में एनडीए गठबंधन ने मांग की है कि भ्रष्टाचार क़ानून के तहत थरूर के खिलाफ कार्रवाई की जाए.

रिपोर्टः पीटीआई/ एम गोपालकृष्णन

संपादनः एस गौड़

संबंधित सामग्री