1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

शर्तों पर मिली श्री श्री को महोत्सव की अनुमति

भारत में राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल ने आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर को नई दिल्ली में विवादों में घिरे विश्व सांस्कृतिक महोत्सव आयोजित करने की अनुमति दे दी है, लेकिन साथ ही 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी ठोका है.

तीन दिवसीय महोत्सव का आयोजन राजधानी में यमुना तट पर शुक्रवार से किया जा रहा है. आयोजन का समर्थन करने वालों में संस्कृति मंत्रालय भी शामिल है जिसने भारतीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार आयोजन के लिए 2.25 करोड़ की मदद दी है. केंद्रीय मंत्रियों महेश शर्मा और बाबुल सुप्रियो ने इस महाआयोजन का समर्थन किया है.

लेकिन पर्यावरण संरक्षकों का आरोप है कि 1000 एकड़ में आयोजित होने वाला यह सम्मेलन यमुना नदी के तट पर नाजुक इकोसिस्टम को नुकसान पहुंचाएगा. इसे लेकर उन्होंने श्री श्री रविशंकर के आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन को कोर्ट में घसीटा. आयोजकों के अनुसार वे महोत्सव के दौरान 35 लाख लोगों के आने की उम्मीद कर रहे हैं जहां योग और ध्यान की बैठकें होंगी. पर्यावरण कार्यकर्ता आनंद आर्य के अनुसार वहां के इकोसिस्टम को 2 लाख टन के बोझ से कुचला जाएगा.

राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा पूछे जाने पर जल संसाधन मंत्रालय ने कहा कि आयोजन के लिए उसने हामी नहीं भरी है. हफ्तों से बड़े स्टेज और पोर्टेबल टॉयलेटों का निर्माण चल रहा था. ट्रिब्यूनल द्वारा पर्यावरण को पहुंचने वाले संभावित खतरों के बारे में टिप्पणी के बाद आयोजन पर संदेह के बादल मंडराने लगे थे.

पर्यावरण संरक्षक इस बात पर नाराजगी जता रहे हैं कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने की कीमत सिर्फ 5 करोड़ आंकी गई है. दिल्ली में भारी प्रदूषण के बावजूद यमुना नदी के इलाके में 200 प्रकार के पेड़ पौधे हैं और वहां पक्षियों की 320 से अधिक प्रजातियां रहती हैं.

विपक्ष का कहना है कि श्री श्री रविशंकर को चुनावों के दौरान समर्थन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन मिल रहा है.

संसद में भी महोत्सव को लेकर हंगामा हुआ और विपक्ष ने पूछा कि सेना की मदद क्यों दी गई. सेना ने आयोजन स्थल पर भीड़ के प्रबंधन में मदद के लिए यमुना पर पुल बनाया है.

किसान भी पर्यावरण को नुकसान के मुद्दे पर श्री श्री के विरोध में उतर आए. जवाब देते हुए मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि श्री श्री पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं.

श्री श्री रविशंकर ने राजनीतिक दलों से महोत्सव का राजनीतिकरन न करने की अपील करते हुए कहा कि इसमें 172 अंतरराष्ट्रीय गणमान्य अतिथि भाग ले रहे हैं.

राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल के फैसले पर असहमति जताते हुए श्री श्री ने उसके खिलाफ अपील करने की बात कही है. मामले पर सस्पेंस कायम है.

संबंधित सामग्री