1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

शराब की लत से बचाने वाला जीन मिला

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसे जीन का पता लगाया है जो शराबी बनने से बचा सकता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि इस जीन की मदद से शराब की लत के शिकार लोगों के इलाज में मदद मिल सकती है.

default

सीवाईपी2ईएल नाम के इस जीन पर ही निर्भर करता है कि अल्कोहल को लेकर लोग किस तरह की प्रतिक्रिया देते हैं. जिन लोगों में यह जीन होता है वे लोग कुछ गिलास पीने के बाद ही महसूस करते हैं कि उन्होंने बहुत ज्यादा पी ली है. नॉर्थ कैरोलाइना यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह अध्ययन किया है.

शोधकर्ताओं ने कहा कि पहले के अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि जिन लोगों में अल्कोहल को लेकर तीखी प्रतिक्रिया होती है उनके शराबी बनने की संभावना कम होती है. लेकिन इस अध्ययन के आधार का अब तक पता नहीं था.

नया अध्ययन ऑनलाइन पत्रिका अल्कोहोलिजमः क्लिनकल एंड एक्सपेरिमेंटल रिसर्च (एसीईआर) में छपा है. इस अध्ययन के लिए मुख्य शोधकर्ता किर्क विलहेल्मसन और उनकी टीम ने कॉलेज के छात्रों की उम्र के सैकड़ों ऐसे जोड़ों को जमा किया जिनके माता पिता में से कोई एक शराबी था.

Österreich Unfalltod von Jörg Haider in Lambichl bei Klagenfurt

अति शराब पीने के नुकसान

इन लोगों को तीन पेग के बराबर अल्कोहल या सोडा कॉकटेल दिया गया. तब उनके सामने विकल्प रखे गए और एक चुनने को कहा गया. विकल्प थेः मैं नशा महसूस कर रहा हूं, मैं नशा महसूस नहीं कर रहा हूं, मुझे नींद आ रही है, मुझे नींद नहीं आ रही है.

शोधकर्ताओं ने विश्लेषण के जरिए यह जानने की कोशिश की कि छात्र अल्कोहल को किस तरह महसूस करते हैं. सीवाईपी2ईएल जीन लिवर में नहीं बल्कि मस्तिष्क में होता है. विलहेल्मसन कहते हैं, "यह पता चला कि इस जीन का एक खास रूप लोगों को अल्कोहल के प्रति ज्यादा संवेदनशील बनाता है. नतीजा दिलचस्प है क्योंकि इससे अल्कोहल के बारे में नई बातें पता चलती हैं कि जब हम शराब पीते हैं तो क्या महसूस करते हैं."

इस जीन के जरिए ऐसी दवाएं बनाई जा सकती हैं जो लोगों को अल्कोहल के लिए ज्यादा संवेदनशील बना दें.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links