1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वॉटसन से मिला भारतीय गैंगस्टर!

मैच फिक्सिंग के संगीन आरोपों से घिरे क्रिकेट में कई राज उजागर हो रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी शेन वॉटसन और ब्रैड हैडिन को भी फिक्सिंग में शामिल करने की कोशिश की गई. इनसे भारत के एक गैंगस्टर ने बात की.

default

ऑस्ट्रेलियाई अखबार द संडे मॉर्निंग हेराल्ड ने लिखा है कि वॉटसन से पिछले साल लंदन में उनके होटल में बात की गई. तब वहां एशेज सीरीज खेली जा रही थी. हैडिन से वर्ल्ड टी20 टूर्नामेंट के दौरान बातचीत की गई.

अखबार ने लिखा है कि इंटरेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के सूत्र इन खिलाड़ियों से मिलने वाले शख्स का जैसा हुलिया बताते हैं, वह मुंबई के एक गैंगस्टर से मिलता है और इसके कई सटोरियों से संबंध हैं. इस पर भारत में जांच भी चल रही है.

यह खबर ब्रिटेन में पाकिस्तानी खिलाड़ियों के स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होने के आरोपों के बाद आई है. ब्रिटेन में एक सटोरिये मजहर मजीद को गिरफ्तार किया गया और अखबार के मुताबिक उसने खुलासा किया कि जनवरी में ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के बीच खेला गया सिडनी टेस्ट भी फिक्स था. ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड के अधिकारी इन खबरों से काफी परेशान हुए हैं, हालांकि उन्होंने कहा कि कुछ भी कहने से पहले वे और जानकारी आने का इंतजार करना चाहते हैं.

हेराल्ड ने लिखा है कि क्रिकेट बोर्ड ने इस बात की पुष्टि की है कि उनकी टीम के दो खिलाड़ियों से सट्टेबाजों ने मुलाकात की थी. अखबार के मुताबिक सटोरिये एक अधिकारी से भी मिले थे.

पहले से ही संदेह के घेरे में रहा पाकिस्तान का ऑस्ट्रेलिया दौरा भी मैच फिक्सिंग की खबरों के बाद सुर्खियों में है. इस दौरे पर पाकिस्तान अपने सारे टेस्ट और वन डे मैच हार गया था. अखबार ने लिखा है कि आईसीसी के निर्देशों पर इस दौरे के मैचों की जांच की गई थी. हालांकि कप्तान रिकी पोंटिंग ने कहा है कि उन्हें पूरा यकीन है कि उनकी जीत सच्ची थी. लेकिन उन्होंने भी कहा है कि सटोरिये खिलाड़ियों तक पहुंचते रहे हैं.

पोंटिंग ने द ऑस्ट्रेलियन को बताया, "पिछले एक दो सालों में इस तरह की घटनाएं हुई हैं, जब बार में होटल के कमरों में सीधे मिल कर या फोन के जरिए कुछ लोगों ने खिलाड़ियों से जानकारियां मांगीं."

इसी सिलसिले में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज डीन जोंस अपने एक कॉलम में श्रीलंका में 1992 के एक दौरे को याद करते हैं, जब उन्हें पैसों से भरे केक के एक बड़े टिन का प्रस्ताव मिला.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एन रंजन

DW.COM