1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

वीडियो: जादू की झप्पी से भरोसे का टेस्ट

आंखों पर पट्टी बांध लेने से क्या आसपास की सच्चाई बदल सकती है? नहीं. लेकिन अगर आंखों पर पट्टी बंधी हो तो आप किसी दूसरे को नजरों से नहीं मन और मानवता से पहचानते हैं. मुंबई की सड़कों पर हुआ ऐसा ही एक सोशल एक्सपेरिमेंट.

कपड़ों के अंदाज और दाढ़ी से वह व्यक्ति मुसलमान लग रहा था. आंखों पर पट्टी बांध कर वह मुंबई की एक सड़क पर खड़ा था. पास में एक तख्ती रखी थी और वह बांहें फैलाए खड़ा था. वीडियो में देखें कि आखिर यह व्यक्ति चाहता क्या है. एक सामाजिक प्रयोग जो यह साबित करता है कि मानवता और प्रेम किसी भाषा या धर्म के मोहताज नहीं होते.

पूरी दुनिया में आए दिन हो रही भेदभाव और असहिष्णुता की घटनाएं पूरे समाज को अंधा बना सकती हैं. धर्म, भाषा, रहन सहन या नस्ल के आधार पर एक दूसरे से बैर ना करने का संदेश देता ये वीडियो मुंबई के कुछ युवाओं ने बनाया है. इन्हीं युवाओं में से एक पारंपरिक मुस्लिम वेशभूषा में सड़क के किनारे खड़ा लोगों से खुद को #jadookijhappi यानि प्यार से गले लगाने की गुजारिश कर रहा है.

7 अक्टूबर को यूट्यूब पर डाले गए इस वीडियो को दो महीने के अंदर करीब 9 लाख लोगों ने देखा और करीब डेढ़ हजार लोगों ने इस सोशल एक्सपेरिमेंट को सराहते हुए टिप्पणियां की हैं. इस तरह के प्रयोग दुनिया के उन कई देशों में हो चुके हैं जहां आतंकवादी वारदातों के बाद से मुसलमानों के प्रति अविश्वास की भावना बढ़ी थी.

DW.COM

संबंधित सामग्री