1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

वीडियो: इंसान को बौना साबित कर सकते हैं रोबोट

रोबोट बहुत जल्दी दुनिया भर का काम काज अपने कंधों पर लेने जा रहे हैं. यकीन न आए तो, बोस्टन में गूगल की लैब में बने इस रोबोट को देख लीजिए.

गूगल की रोबोटिक्स फर्म और "नाइटमेयर" फैक्ट्री बोस्टन डायनैमिक्स ने अपने नये रोबोट का वीडियो जारी किया है. हैंडल नाम का यह रोबोट हैरान करने वाला मशीनी अवतार है. दो पहियों और चार पायो वाला हैंडल एक हाईब्रिड रोबोट है.

हैंडल हर तरह की सतह पर चल सकता है. इसकी रफ्तार करीब 15 किलोमीटर प्रतिघंटा है. रोबोट कभी पहियों के सहारे तो कभी पैरों के सहारे चलता है. यह चार पाये जानवरों की तरह भी और दो पैरों वाले इंसान की तरह भी आगे पीछे जाता है. हैंडल पूरे संतुलन के साथ 50 किलोग्राम भार उठा सकता है.

 

यह तो रोबोटिक्स का एक नमूना भर है. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स का मिलन इंसान और तकनीक को एक नई दुनिया में ले जा रहा है. लगातार बेहतर होते जा रहे रोबोट दुनिया का चेहरा बदलने को तैयार है. विशेषज्ञों के अनुमान के मुताबिक आने वाले 10 साल में रोबोट 70 फीसदी से ज्यादा नौकरियां खत्म कर देंगे.

रोबोटिक्स के चलते आने वाला बड़े सामाजिक बदलाव की अभी से तैयारी करनी होगी. माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स को रोबोटों की कमाई पर टैक्स लगाने की वकालत भी कर चुके हैं. कुछ दिग्गज वैज्ञानिक भी रोबोटिक्स के बढ़ते दखल से अहसज महसूस कर रहे हैं. उन्हें डर है कि कहीं आर्टिफिशियल बुद्धि से लैस मशीनें नियंत्रण से बाहर न हो जाएं.

(यह नौकरी भी छीन ली रोबोट ने)

DW.COM