1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

वीडियो: असली भेड़चाल यह है

भेड़चाल, किसे कहते हैं, इसे उदाहरण के साथ अच्छी तरह समझना हो तो इस वीडियो को देखिए. भेड़ें ऐसा क्यों करती हैं, यह तो आप समझ जाएंगे. लेकिन इंसान ऐसा क्यों करते हैं, यह सोचने वाली बात है.

अपना दिमाग लगाए बगैर आगे वाले के पीछे हो लेना, बिना जांच परखे हूबहू तरीका अपनाना, आम बोलचाल में इसे ही भेड़चाल कहा जाता है. अगर इंसान ऐसा करें, तो उसे खराब माना जाता है. लेकिन भेड़ों के लिए ऐसा करना जरूरी होता है.

असल में भेड़ों को सबसे ज्यादा खतरा भी रहता है. भेड़ न तो तेज भाग सकती है और न ही लोमड़ी, सियार, भेड़िये या तेंदुए से अपनी रक्षा कर सकती है. ऐसे में भेड़ों को सुरक्षा उनका बड़ा समुदाय देता है. सबसे आगे वाले के पीछे लगकर बाकी भेड़ों को सुरक्षा का अहसास होता है. अगर सामने से कोई खतरा आया तो उसका सामना सबसे पहले आगे वाली भेड़ को करना होगा.

लेकिन समस्या सबसे पीछे वाली भेड़ों के सामने भी होती है. शिकारी के पीछे से आने पर वे लाचार हो जाएंगी. इसी वजह से पीछे वाली भेड़ें हमेशा झुंड के बीच में घुसने की कोशिश करती रहती है. इस प्रक्रिया में झुंड का आकार लगातार बदलता रहता है. लेकिन इसके बावजूद सारी भेड़ें होती किसी एक के ही पीछे हैं.

न्यूजीलैंड के चरागाह में फिल्माये गए इस वीडियो में भेड़ों की सुरक्षा के लिए आस पास कुत्ते हैं. भेड़ें इस बात को अच्छे से जानती हैं कि कुत्ते किसी शिकारी को उनके पास फटकने नहीं देंगे. लेकिन इसके बावजूद उनका सहज स्वभाव उनकी भेड़चाल बनाए रखता है.

DW.COM

संबंधित सामग्री