विवाह पर उठते सवाल | दुनिया | DW | 22.10.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विवाह पर उठते सवाल

जर्मनी में परिवारों की संरचना बदल रही है. करीब एक तिहाई परिवार परंपरागत तरीके वाले नहीं होते. परिवार के रूप में रहने के लिए विवाह का मॉडल धीरे धीरे पुराना पड़ता जा रहा है. साथ रहने वाले जोड़ों की तादाद बढ़ रही है.

जर्मनी में माताओं और पिताओं का 20 फीसदी एक दूसरे के साथ नहीं रहता. बच्चों की परवरिश अकेले करने वालों की तादाद बढ़ रही है. 1996 के बाद से बच्चे का पालन पोषण करने वाले अकेले माता या पिता की संख्या छह फीसदी बढ़ गई है. 10 फीसदी लोग या तो विवाह किए बिना साथ रहते हैं या समलैंगिक रिश्तों में रहते हैं. उनकी तादाद दोगुनी हो गई है. जर्मन सांख्यिकी कार्यालय के अनुसार इस विकास के बावजूद जर्मनी में अभी भी पारिवारिक जीवन पर वैवाहिक रिश्तों का दबदबा है.

जर्मनी में कम से कम एक नाबालिग बच्चे वाले करीब 81 लाख परिवार हैं और उनमें 70 फीसदी माता-पिता शादीशुदा हैं. यह आंकड़ें 2013 के मिनी जनगणना से पता चले हैं जो जर्मनी और यूरोप में हर साल कराई जाती है. इस जनगणना के लिए परिवार उन इकाईयों को माना जाता है जिनमें 18 साल से कम उम्र का कम से कम एक बच्चा रहता है. बच्चे अपनी संतान हो सकते हैं या सौतेले और गोद लिए हुए भी.

विवाह की वजह

आबादी पर शोध करने वाले समाजशास्त्री युर्गेन डोबरित्स का कहना है कि बच्चों की ही वजह से वैवाहिक रिश्ते अभी भी जर्मनी में परिवार का सबसे महत्वपूर्ण रूप हैं. "उनकी वजह से ही अक्सर शादियां की जाती हैं." लेकिन साथ ही डोबरित्स का कहना है कि विवाह का महत्व लगातार घटता जा रहा है. जर्मनी के अलावा यूरोपीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बहुत से बच्चे पहले की अपेक्षा दूसरे परिवारिक ढांचों में पल बढ़ रहे हैं.

डोबरित्स के अनुसार इसकी वजह महिलाओं के बढ़ते रोजगार के अलावा दृष्टिकोण में हो रहा बदलाव भी है. आर्थिक विकास के साथ महिलाएं बढ़ते पैमाने पर नौकरी कर रही हैं और श्रम बाजार का हिस्सा बनती जा रही हैं लेकिन दूसरी ओर परिवार के बारे में धारणाएं भी बदल रही हैं. एक सर्वेक्षण के अनुसार जर्मनी में 20 से 30 साल की उम्र के 35 फीसदी लोग विवाह की संस्था को पुरातनपंथी मानते हुए उसे अस्वीकार करते हैं. और ऐसे लोगों की संख्या बढ़ रही है. डोबरित्स के अनुसार हर दसवां नौजवान बच्चे नहीं चाहता.

विवाह के खिलाफ पूरब

खासकर जर्मनी के पूर्वी हिस्से में विवाह से दूरी बहुत साफ है. मिनी जनगणना के नतीजों की व्याख्या करते हुए डोबरित्स कहते हैं, "आश्चर्यजनक बात यह है कि पूर्व में पश्चिमी प्रांतों की तुलना में कम लोग ऐसे हैं जिनके बच्चे नहीं हैं, लेकिन विवाहित जोड़ों की तादाद भी कम है." सेक्सनी अनहाल्ट और सेक्सनी में विवाहित जोड़ों का हिस्सा सिर्फ 51 फीसदी है जो देश में सबसे कम है. वहां रहने वाले अविवाहित जोड़ों की संख्या जर्मनी में सबसे ज्यादा 23 फीसदी है.

इसके विपरीत पश्चिमी प्रांत राइनलैंड पैलेटिनेट में सिर्फ छह फीसदी जोड़े अविवाहित रिश्ते में रहते हैं. सबसे ज्यादा विवाहित जोड़ों वाले परिवार जर्मनी के दक्षिण में बाडेन वुर्टेमबर्ग प्रांत में रहते हैं जहां उनकी संख्या 78 फीसदी है. और जहां तक माता या पिता में सिर्फ एक के साथ रहने वाले बच्चों का सवाल है तो बर्लिन में उनकी तादाद सबसे ज्यादा है. वहां 32 फीसदी लोग ऐसे हैं जो अकेले बच्चों का पालन पोषण कर रहे हैं. बाडेन वुर्टेमबर्ग में उनकी संख्या सिर्फ छह प्रतिशत है.

एमजे/एएम (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री