1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विवाद सुलझाने के लिए क्लिंटन मध्यपूर्व में

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन इस्राएल फलीस्तीनी शांति वार्ताओं को बचाने के लिए मध्यपूर्व में हैं. इस्राएल की बस्ती निर्माण पर मतभेदों को पाटने के लिए उन्होंने समस्या के मुख्य किरदारों के साथ बातचीत शुरू की है.

default

शर्म अल शेख में स्वागत

सितंबर के आरंभ में नई मध्यपूर्व वार्ता की शुरुआत के बाद इलाके के अपने पहले दौरे पर क्लिंटन मिस्र के शर्म अल शेख में इस्राएल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू और फलीस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास से मिल रही हैं. इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री ने वार्ता की तैयारी में मिस्र का मन टटोलने के लिए राष्ट्रपति होसनी मुबारक से मुलाकात की. मुबारक इस वार्ताओं में महत्वपूर्ण अरब मध्यस्थ हैं.

USA Israel Palästinenser Benjamin Netanyahu Hillary Rodham Clinton und Mahmoud Abbas in Washington

फिर त्रिपक्षीय वार्ता

वार्ताओं से पहले इस्राएल और फलीस्तीनी प्रतिनिधियों की गई टिप्पणियों से ऐसा नहीं लगता कि अधिकृत वेस्ट बैंक में यहूदी बस्तियों के विस्तार पर कोई सहमति संभव हो. फलीस्तीनी वार्ताकार साएब एरेकात ने कहा है, "बस्ती निर्माण किसी भी रूप में जारी रखने का मतलब वार्ता को नष्ट करना होगा." इससे पहले प्रधानमंत्री नेतान्याहू ने रविवार को कहा कि वे निर्माण पर आंशिक रोक की अवधि नहीं बढ़ाएंगे लेकिन उन्होंने भविष्य में किसी निर्माण को रोकने का संकेत दिया.

हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि इस्राएल और फलीस्तीन दोनों को ही इस्राएली योजना पर मतभेदों को सुलझाने के लिए कदम उठाने की जरूरत है. उन्होंने पत्रकारों से कहा, मेरे लिए यह बहुत आसान पसंद है, वार्ता नहीं, सुरक्षा नहीं, देश नहीं. क्लिंटन ने इस्राएल से रोक को बढ़ाने की राष्ट्रपति बराक ओबामा की अपील को दोहराया और कहा, "मैं समझती हूं कि लक्ष्य तक पहुंचने के कई रास्ते हैं. लक्ष्य सीमा और भूमि जैसे मुख्य मुद्दों पर सहमति है, जिस पर यदि सहमति हो जाती है तो बस्ती पर बहस समाप्त हो जाएगी."

इस्राएली प्रधानमंत्री नेतान्याहू के शर्म अल शेख के लिए रवाना होने से पहले एक इस्राएली अधिकारी ने कहा कि प्रधानमंत्री वार्ता में बाधा नहीं डालना चाहते हैं.

वार्ता से किसी महत्वपूर्ण नतीजे की उम्मीद नहीं की जा रही है. अधिकारियों ने कहा है कि मंगलवार को बातचीत के बाद न तो प्रेस कांफ्रेंस होगा और नही कोई संयुक्त बयान जारी किया जाएगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: ए जमाल

DW.COM

WWW-Links