1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

विवादों के बीच ज़रदारी की ब्रिटेन यात्रा

ब्रिटेन द्वारा पाकिस्तान पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप और तालिबान के खिलाफ़ लड़ाई में पश्चिम की हार के ज़रदारी के दावे के बीच पाकिस्तानी राष्ट्रपति लंदन पहुंचे हैं. उनके बयान पर भी हो रहा है विवाद.

default

भयानक बाढ़ के बीच देश छोड़ने के लिए भी आसिफ़ ज़रदारी की आलोचना हो रही है. पाकिस्तानी मूल के कई ब्रिटिश सांसदों ने उनके साथ लंच के एक कार्यक्रम को रद्द कर दिया. हाउस ऑफ लॉर्ड्स के सदस्य लॉर्ड नाज़िर ने पत्रकारों से कहा कि वे पाकिस्तानी राष्ट्रपति से नहीं मिलेंगे, क्योंकि उनकी राय में देश में बाढ़ की ऐसी विपदा की स्थिति में राष्ट्रपति को वहां मौजूद रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी राष्ट्रपति जनता से दूर हो चुके हैं. ज़रदारी लंदन में पहुंचने के बाद उनके होटल के सामने प्रदर्शन हुए. प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि इस यात्रा के लिए बर्बाद किए जा रहे धन का बाढ़ पीड़ितों के लिए कहीं बेहतर इस्तेमाल हो सकता है.

लंदन पहुचने से पहले फ़्रांसीसी समाचार पत्र ले मोंद

Asif Ali Zardari

के साथ एक साक्षात्कार में राष्ट्रपति ज़रदारी ने कहा कि पाकिस्तान सहित अंतरराष्ट्रीय समुदाय तालिबान के ख़िलाफ़ लड़ाई में हार रहा है. इसका मुख्य कारण है कि हम लोगों का दिल जीतने की लड़ाई में हार चुके हैं, उनका कहना था. ज़रदारी की राय में तालिबान सत्ता पर फिर से कब्ज़ा करने में तो कामयाब नहीं होगा, लेकिन उनका शिकंज़ा कसता जा रहा है.

वाशिंगटन में व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने ज़रदारी के वक्तव्य पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उनकी राय में राष्ट्रपति ओबामा ज़रदारी के इस निष्कर्ष से सहमत नहीं होंगे कि तालिबान के ख़िलाफ़ लड़ाई में हार हो चुकी है.

इस बीच ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने भारत में की गई अपनी टिप्पणी की फिर से पुष्टि की है कि पाकिस्तान आतंकवाद का समर्थन कर रहा है. बीबीसी को उन्होंने बताया कि उन्होंने एक स्पष्ट सवाल का स्पष्ट जवाब दिया है. पाकिस्तान में आतंक के जाल को ख़त्म करने के लिए काम करना पड़ेगा, जो सारी दुनिया में निर्दोष लोगों को खतरा पहुंचा रहा है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: ए जमाल

DW.COM