1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

वियतनाम में लाल काई का कहर

वियतनाम के पास समंदर में लाल रंग की काई फैल रही है. रेड टाइड कही जाने वाली इस काई के चलते कई टन मछलियां मारी जा चुकी हैं.

उत्तरी वियतनाम के एक मछली फॉर्म में 47 टन मछलियां अचानक मारी गई. 5 से 8 सितंबर के बीच ही अधिकारियों को समुद्र तट पर भी हजारों मरी हुई मछलियां मिली. तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों के मुताबिक समुद्र का पानी अचानक लाल और भूरा होने लगा. थान्ह होआ राज्य के अधिकारियों ने जांच के लिए समुद्री पानी का सैंपल लिया तो उन्हें पता चला कि पानी में क्रेराटियम फुर्का की मात्रा बहुत ज्यादा है. एक लीटर पानी में 80 लाख क्रेराटियम फुर्का कोशिकाएं मिलीं.

लाल रंग की ये काई पानी में बड़ी तेजी से फैलती है और बड़े हिस्से को लाल कर देती है. इसी वजह से इसे रेड टाइड यानि लाल लहर भी कहा जाता है. आम तौर पर लाल काई का आना और जाना प्राकृतिक रूप से होता है. लेकिन वियतनाम की घटना प्राकृतिक नहीं है.

Chile giftige Rotalgen Fischsterben Krise Fischerei Plage Giftalgen Algen

मछलियों के तंत्रिका तंत्र को मार देती है रेड टाइड

अधिकारियों का आरोप है कि नदी में फेंके गये कचरे के चलते ये काई असामान्य ढंग से फैली. अधिकारियों ने मछली फॉर्मों से अपील की है कि वे समुद्र में बने फॉर्मों से मछलियों को कहीं और ले जाएं. रेड टाइड वाली लहरों पर नजर रखने के लिए अधिकारियों को तैनात किया गया है.

वियतनाम की अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा मछली पालन से आता है. देश मछली उद्योग को लेकर बेहद संवेदनशील भी रहता है. इसी साल अप्रैल और मई में ताइवान के एक तेल टैंकर से हुए रिसाव के चलते भी सैकड़ों टन मछलियां मारी गईं. अब रेड टाइड के चलते पैदा हुआ मछली संकट देश को परेशान कर रहा है. पर्यावरण संरक्षकों ने सरकार के रवैये की आलोचना की है.

(क्या है पशुओं की सामूहिक मौत का राज)

DW.COM

संबंधित सामग्री