1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

विद्या बालन कान की जूरी में

सालों पहले शेखर कपूर और शर्मिला टैगोर ने कान फिल्मी मेले की जूरी में जगह पाई थी इस बार विद्या बालन हैं. बीते साल डर्टी पिक्चर, कहानी और फिर अपनी शादी के लिए सुर्खियों में रही विद्या के पास इठलाने का एक और मौका है.

विद्या बालन हॉलीवुड निर्देशक स्टीवन स्पीलबर्ग, आंग ली और अभिनेत्री निकोल किडमैन के साथ फिल्मी मेले की जूरी में होंगी. ऑस्ट्रेलियाई अभिनेत्री निकोल किडमैन ने द आवर्स में लेखिका वर्जीनिया वुल्फ बन कर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का ऑस्कर जीता है जबकि ताइवान में जन्मे ली इसी साल लाइफ ऑफ पाई के लिए ऑस्कर के सर्वश्रेष्ठ निर्देशक बने हैं. उम्र का ज्यादा वक्त विदेशों में ही बिताने वाले आंग ली को इसके पहले ब्रोकबैक माउंटेन के लिए भी सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का ऑस्कर खिताब मिल चुका है. इसके अलावा कूंग फू पर बनी उनकी फिल्म क्राउचिंग टाइगर, हिडेन ड्रैगन को ऑस्कर के विदेशी फिल्मों की श्रेणी में पुरस्कार मिला.

देश में कई बार राष्ट्रीय पुरस्कार और दूसरे फिल्मी पुरस्कार जीत चुकीं विद्या बालन को पहली बार अंतरराष्ट्रीय मंच पर इतनी सम्मानित जगह मिली है. इस समारोह के तो रेड कार्पेट पर चलने के लिए ही बॉलीवुड़ कलाकार मचलते रहते हैं लेकिन यहां वो जूरी की सदस्य होंगी. विद्या बालन के अलावा नंदिता दास को शॉर्ट फिल्मों की जूरी में शामिल किया गया है. इससे पहले शर्मिला टैगोर और शेखर कपूर भी कान की जूरी के सदस्य रहे हैं. ऐश्वर्या रॉय तो यहां की लाल कालीन पर कई बार दिखी हैं.

जूरी के दूसरे सदस्यों में जापानी निर्देशक नाओमी कावासे, स्कॉटिश निर्देशक लिन रामसे, फ्रेंच अभिनेता निर्देशक डैनियल आउटाइल, रोमानियाई निर्देशक क्रिस्टियान मुंगिउ और एक्टर क्रिस्टोफ वाल्त्स शामिल हैं. क्रिस्टोफ वाल्त्स ने इस साल जैंगो अनचेन्ड के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का ऑस्कर जीता है. यही पुरस्कार वो 2010 में इनग्लोरियस बास्टर्ड्स में नाजी अधिकारी की भूमिका के लिए भी जीत चुके हैं.

इस बार के डाइरेक्टर्स फोर्टनाइट मुकाबले में भारत के अनुराग कश्यप की फिल्म अग्ली भी है. इसके अलावा कान फिल्म महोत्सव में हिंदी सिनेमा को सम्मान देने के लिए बॉम्बे टॉकीज भी दिखाई जा रही है. हिंदी सिनेमा के 100 साल पूरे होने पर तैयार की गई इस खास फिल्म में चार छोटी छोटी फिल्में हैं जिनका अनुराग कश्यप, दिबाकर बैनर्जी, जोया अख्तर और करन जौहर ने निर्देशन किया है. इसका संगीत अमित त्रिवेदी ने तैयार किया है. अगले महीने की 3 तारीख को यह फिल्म रिलीज होगी. दो और फिल्में भारत से हैं जिन्हें कान के क्रिटिक्स वीक के लिए चुना गया है. डब्बा और मानसून शूटआउट नाम की इन दोनों फिल्मों के सहनिर्माता अनुराग कश्यप हैं.

हर साल 16-26 मई के बीच लगने वाला यह फिल्मी मेला फ्रांस का फिल्म डाइरेक्टर्स गिल्ड आयोजित करता है. स्पीलबर्ग के नेतृत्व वाली जूरी प्रतियोगिता खंड में दिखाई जा रही 19 फिल्मों में एक फिल्म का चुनाव पाल्म डिओर पुरस्कार के लिए करेगी. उद्घाटन समारोह में बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन भी मौजूद रहेंगे.

एनआर/एमजे (एएफपी,पीटीआई)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री