1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विदेश नीति के माहिर को दूसरा मौका

जॉन केरी अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पहली पसंद नहीं थे, लेकिन सूजन राइस के पीछे हटने के बाद 69 वर्षीय केरी अगले चार साल तक ओबामा के मुख्य राजनयिक होंगे.

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार राष्ट्रपति ओबामा ने नए मंत्रिमंडल के लिए विदेश मंत्रालय का जिम्मा डेमोक्रैटिक सीनेटर जॉन केरी को दिया है. वे 2004 में अपनी पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार थे. उनके नाम की औपचारिक घोषणा अगले हफ्ते होगी. ओबामा इस पद के लिए संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की दूत सूजन राइस को नियुक्त करना चाहते थे. लेकिन बेनगाजी में अमेरिकी राजदूत पर हुए हमले को लेकर रिपब्लिकन पार्टी के साथ विवाद के बाद 48 वर्षीया राइस ने अपना नाम वापस ले लिया.

रक्षा मंत्रालय में लियोन पैनेटा की जगह रिपब्लिकन पार्टी के पूर्व सीनेटर 66 वर्षीय चक हैगेल लेंगे. अपुष्ट खबरों के अनुसार रिपब्लिकन पार्टी ने सीनेट में इन नामों का समर्थन करने का वादा किया है. कई कारणों से नामों की घोषणा अभी नहीं की जा रही है. फिलहाल कनेक्टिकट की गोलीबारी में 27 लोगों की मौत पर देश शोक में डूबा है.

John Kerry zu Gesprächen in Pakistan

केरी और गिलानी

जॉन केरी भले ही ओबामा की पहली पसंद न हों, लेकिन उनके करीबी लोग उन्हें जानकारी वाला विदेश नीति विशेषज्ञ मानते हैं. सीनेट की तीन दशकों की सदस्यता के बाद उन्हें कुशल विदेश नीतिकार माना जाता है. अपने आदर्श जॉन एफ कैनेडी की तरह जॉन केरी अमेरिकी राष्ट्रपति बनना चाहते थे, लेकिन 2004 में वे जॉर्ज डब्ल्यू बुश को पछाड़ नहीं पाए. राजनयिक पिता के 1.93 मीटर लंबे बेटे जॉन की कमजोरी उनकी संभ्रांत और रूखी शख्सियत रही लेकिन अमेरिकी राजनीतिज्ञों की दूसरी कतार में वे सबसे आगे हैं.

पिछले दिनों उन्होंने अफगानिस्तान और पाकिस्तान में मुश्किल जिम्मेदारियों को पूरा कर बहुत नाम कमाया है. इस समय वे सीनेट की विदेशनीति आयोग के प्रमुख थे और उन्हें ओबामा सरकार का भरोसा प्राप्त था. ओबामा प्रशासन के एक पूर्व सदस्य का कहना है, "वे समस्याओं का हल कर सकते हैं, और उसके लिए जोखिम उठाने के लिए भी तैयार हैं."

John Kerry im Endspurt

चुनाव प्रचार

केरी और हैगेल को विदेशनीति के मामलों में ओबामा की ही तरह व्यावहारिक राजनीतिज्ञ माना जाता है. उनके कार्यकाल का सबसे मुश्किल सवाल सीरिया और ईरान पर सैनिक कार्रवाई के अलावा अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी हो सकता है. इसके अलावा अमेरिका की मध्यपूर्व और चीन नीति भी दांव पर है.

अमेरिकी प्रशासन में परिवर्तन अचानक नहीं हो रहा है. चुनाव से पहले ही पैनेटा और क्लिंटन ने पद छोड़ने की घोषणा कर दी थी. पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन को पिछले दिनों गिरने के बाद सर में चोट लगी है. अगले साल 20 जनवरी को दूसरा कार्यकाल शुरू करने से पहले ओबामा को अपनी कैबिनेट में कुछ और परिवर्तन करने होंगे. नए वित्त मंत्री के अलावा उन्हें सीआईए प्रमुख की भी नियुक्ति करनी है.

एमजे/एनआर (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री