विदेशी जासूसों की रिपोर्ट के लिए चीन की वेबसाइट | दुनिया | DW | 16.04.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विदेशी जासूसों की रिपोर्ट के लिए चीन की वेबसाइट

चीन ने विदेशी जासूसों के बारे में रिपोर्ट देने के लिए एक वेबसाइट शुरू की है. मैंडारिन और अंग्रेजी भाषा की इस वेबसाइट के जरिए चीन विदेशी जासूसों पर नकेल डालना चाहता है, चीन के निशाने पर अलगाववादी और सरकार विरोधी भी हैं.

चीन की सरकार ने www.12339.gov.cn यूआरएल वाली इस वेबसाइट की शुरुआत के साथ लोगों से "सामाजिक तंत्र को उलटने" जैसे राष्ट्रीय सुरक्षा के खतरों से निपटने के लिए लोगों से जासूसी की हरकतों को रिपोर्ट करने के लिए कहा है. यह वेबसाइट राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्रालय ने रविवार को शुरू की. इसमें लोगों से किसी चीनी या विदेशी नागरिक को सरकारी या सैन्य अधिकारियों को घूस देते, हथियारबंद दंगे या फिर जातीय आधार पर अलगाववाद भड़काने जैसी गतिविधियों में शामिल होने वालों की रिपोर्ट करने का अनुरोध किया गया है.

"चीन की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने का काम करने या फिर ऐसा करने के मामले में संदिग्ध किसी व्यक्ति" से किसी विदेशी नागरिक की मुलाकात को भी इसमें प्रमुख समस्या वाली गतिविधि माना गया है. इस प्रावधान के कारण यह चिंता भी पैदा हो गई है कि देश में समय समय पर चीन की सरकार के खिलाफ उठने वाली आवाजों को भी इसकी मदद से दबाया जा सकता है.

जानाकारी देने वालों को जासूसी के उपकरणों की खोज करने या फिर किसी संदिग्ध के सरकारी गोपनीय जानकारियों को खरीदने या बेचने से जुड़ी सूचना देने वाले को पुरस्कार दिया जाएगा. इस वेबसाइट पर चीनी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में शिकायत दर्ज कराने की सुविधा है. वेबसाइट पर यह नहीं बताया गया कि जानकारी देने वाले को क्या इनाम मिलेगा. हालांकि द बीजिंग सिटी नेशनल सिक्योरिटी ब्यूरो ने जरूर 1500 से 73000 अमेरिकी डॉलर का पुरस्कार देने की बात कही थी. बीते साल बीजिंग डेली ने इस बारे में खबर दी थी.

मंत्रालय ने एक कार्टून भी जारी किया है जिसका टाइटल है, "ए फ्रेंड विद ए मास्क" ताकि लोगों को संदिग्ध हरकतों के बारे में समझाया जा सके. 15 अप्रैल को चीन नेशनल सिक्योरिटी एजुकेशन डे के रूप में मनाता है और इसी मौके पर इस दिशा में नए कदम उठाए गए हैं. कार्टून में एक अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन के विदेशी नागरिक की कहानी है जो चीन में "पश्चिमी देशों की तरह" मजदूरों के अधिकारों का प्रचार करता है. यह विदेशी कथित रूप से एक चीनी प्रतिनिधि को "घूस" देता है ताकि वो सेमिनार आयोजित करे और मजदूरों को एकजुट कर अपने अधिकारों के लिए विरोध करने को कहे. कार्टून के मुताबिक इस तरह के सार्वजनिक विरोध गैरकानूनी हैं और एक सजग मजदूर "अशांति" के पीछे विदेशी की रिपोर्ट करता है. 

2016 में मंत्रालय ने एक और कार्टून सीरीज जारी की थी जिसमें चीनी नागरिकों से विदेशी लोगों के साथ रोमांटिक रिश्तों से बचने की चेतावनी दी गई थी. कहा गया था कि यह गोपनीय सरकारी जानकारियों को निकालने का जरिया भी हो सकता है.

एनआर/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री