1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विजय माल्या की सुनवाई 4 दिसंबर से

फॉर्मूला वन टीम फोर्स इंडिया के मालिक विजय माल्या पर चल रहे धोखाधड़ी के मामले में लंदन के कोर्ट में सुनवाई हुई. ब्रिटिश कोर्ट ने प्रत्यर्पण मामले में विजय माल्या की जमानत बढ़ा दी है.

Indien Bangalore Airport VVijay Mallya unter Kingfisher Airlines LOGO (picture-alliance/dpa/M. Kiran)

विजय माल्या (फाइल फोटो)

सुनवाई के अनुसार उन पर कुछ और मामले दर्ज किये जा सकते हैं और ब्रिटेन से भारत प्रत्यर्पण के लिए एक और याचिका दायर की जा सकती है. विजय माल्या को अप्रैल माह में ब्रिटेन पुलिस ने गिरफ्तार किया था. किंगफिशर के डूबने के बाद और कंपनी के बैंकों को लोन न चुकाये जाने के संबंध में भारत सरकार ब्रिटेन से विजय माल्या का प्रत्यर्पण करवाने की कोशिश कर रही है. भारतीय अधिकारियों के मुताबिक विजय माल्या पर 9000 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है.

इस मामले पर माल्या ने खुद पर लगाये सारे आरोपों को अस्वीकार किया है. विजय माल्या ने कहा, "मैं सारे आरोपों को खारिज करता हूं, मेरे पास अपना पक्ष साबित करने के लिए सारे मबूत हैं.” इस मामले में माल्या की जमानत आगे बढ़ा दी गयी है और अगली सुनवाई 6 जुलाई को होगी. भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील एरन वाटकिंस ने अदालत से कहा कि ब्रिटेन में अभियोजन पक्ष अभी भी भारत के दस्तावेजों और साक्ष्यों की प्रतीक्षा कर रहे थे और उनके अगले महीने आने की उम्मीद है.

अदालत ने कहा कि किसी भी देरी या प्रत्यर्पण के दूसरे अनुरोध की स्थिति में तारीख अगले साल अप्रैल तक खिंच सकती है. ब्रिटेन की प्रत्यर्पण प्रक्रिया जटिल हो सकती है और किसी नतीजे पर पहुंचने में लंबा समय लग सकता है. माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस ने बैंकों का करीब 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज नहीं चुकाया है. इस मामले में वह भारत में वांछित हैं. मार्च 2016 से ही वह ब्रिटेन में हैं और बीते अप्रैल उन्हें प्रत्यर्पण वारंट पर स्कॉटलैंड यार्ड ने गिरफ्तार किया था.

एसएस/एमजे (रॉयटर्स)

 

 

संबंधित सामग्री