1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

"विकीलीक्स नहीं, अमेरिका जिम्मेदार"

ऑस्ट्रेलिया ने ढाई लाख गोपनीय अमेरिकी राजनयिक संदेशों के जारी होने के लिए विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज को नहीं बल्कि अमेरिका को ही जिम्मेदार बताया है. असांज ऑस्ट्रेलियाई नागरिक हैं.

default

केविन रड की खरी खरी

ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री केविन रड ने कहा कि दस्तावेज लीक हो जाने के बाद अपने ही राजनयिक संदेशों पर अमेरिकी सुरक्षा पर सवाल उठते हैं. समाचार एजेंसी रॉयटर्स को दिए इंटरव्यू में रड ने कहा, "(जूलियन) असांज खुद ढाई लाख अमेरिकी राजनयिक संदेशों के लीक के जिम्मेदार नहीं हैं. इसके लिए खुद अमेरिकी जिम्मेदार हैं." विकीलीक्स की ओर से जारी एक अमेरिकी केबल में रड को बहुत ज्यादा नियंत्रण रखने वाला बताया गया है.

विकीलीक्स के संस्थापक ऑस्ट्रेलियाई नागरिक जूलियन असांज ने गोपनीय दस्तावेजों को जारी करने को सही ठहराया है. वह इसे दुनिया भर में लोकतंत्र का प्रसार करने के लिए अहम मानते हैं और खुद की तुलना मीडिया मुगल रुपर्ट मर्डोक से करते हैं क्योंकि वह सच को सामने ला रहे हैं.

असांज ने राजनयिक संदेशों को उजागर कर अमेरिका और दुनिया भर की सरकारों का गुस्सा मोल लिया है. ये दस्तावेज कहां से लीक किए गए, इस बारे में अब भी साफ साफ कुछ नहीं पता. लेकिन अमेरिकी सैन्य अफसरों ने इराक में खुफिया विशेषज्ञ के तौर पर काम करने वाले ब्रैंडले मैनिंग पर गैरकानूनी रूप से डेढ़ लाख अमेरिकी राजनयिक संदेशों को डाउनलोड करने का आरोप लगाया है. अमेरिकी अधिकारी यह कहने को भी तैयार नहीं है कि क्या विकीलीक्स की तरफ से वही दस्तावेज जारी किए गए हैं जिन्हें मैनिंग

Wikileaks - Internetseite Cablegate NO FLASH

ने डाउनलोड किया.

लंदन की एक अदालत ने असांज को स्वीडन में लगे यौन अपराध के आरोपों में मंगलवार को हिरासत में भेज दिया. वैसे असांज इन आरोपों से इनकार करते हैं. रड का कहना है, "मुझे लगता है कि असल सवाल अमेरिकी सुरक्षा व्यस्था को लेकर कर उठता है कि लंबे समय से लोगों की इस तरह की सामग्री तक किस स्तर की पहुंच है. अहम जिम्मेदारी या कहें कानूनी जवाबदेही उन लोगों पर जाती है जिन्होंने शुरुआत में इन दस्तावेजों को लीक किया."

मर्डोक के द ऑस्ट्रेलियन अखबार में छपे असांज ने अपने लेख में कहा है कि उन पर हमले नहीं बल्कि उनका संरक्षण होना चाहिए. वह लिखते हैं, "1958 में युवा रुपर्ट मर्डोक ने लिखा, 'गोपनीयता और सच की दौड़ में जरूरी है कि आखिरकार सच की ही जीत हो.' वह उस वक्त एडीलेट के द न्यूज अखबार के मालिक और संपादक हुआ करते थे." असांज रुपर्ट मर्डोक के पिता कीथ मर्डोक का भी जिक्र करते हैं जिन्होंने पहले विश्व युद्ध के दौरान गैलीपॉली में ऑस्ट्रेलियाई लोगों की मौतों का मामला उजागर किया. वहां ब्रिटिश कमांड के तहत ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों को तुर्कों के खिलाफ नाकाम हमले के बाद बेदर्दी से कत्ल किया गया था. असांज कहते हैं कि लगभग एक सदी बाद विकीलीक्स भी वही कर रहा है और सच को सामने ला रहा है.

असांज ने लंदन में अपनी गिरफ्तारी के बारे में कुछ नहीं लिखा. स्वीडन की तरफ से जारी यूरोपीय वारंट के बाद गिरफ्तार असांज को लंदन की एक अदालत ने 14 दिसंबर को मामले की अगली सुनवाई तक जेल में भेज दिया है. ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री ने असांज को मौजूद खतरों पर भी चिंता जताई है जिनकी हत्या भी हो सकती है. रड ने कहा, "हम सभी ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंतित रहते हैं. लोग ऐसे खतरों से मुक्त रहने चाहिए."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links