1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विकीलीक्स के संस्थापक के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस

विकीलीक्स के ताजा खुलासे दुनिया भर में तहलका मचा रहे हैं तो बलात्कार के आरोपों के सिलसिले में खोजे जा रहे विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज को अब इंटरपोल की मदद से पूरी दुनिया में खोजा जा रहा है.

default

कहां हैं असांज, कोई खबर नहीं

अंतरराष्ट्रीय पुलिस संस्था इंटरपोल ने 39 वर्षीय असांज को खोजे जा रहे लोगों की अपनी सूची में शामिल कर लिया है. मंगलवार को इंटरपोल ने इस सिलसिले में एक रेड कॉर्नर नोटिस अपनी वेबसाइट पर जारी किया.

स्वीडन ने मध्य नवंबर में इंटरपोल से असांज की विश्वव्यापी खोज करने का आग्रह किया था. ऑस्ट्रेलियाई नागरिक असांज के खिलाफ दो महिलाओं की शिकायत के बाद बलात्कार और यौन उत्पीड़न के आरोप में वारंट जारी किया गया है. असांज ने आरोपों से इनकार किया है और उसे अमेरिकी सरकार की साजिश बताया है.

इस समय इंटरनेट एक्टिविस्ट असांज कहां हैं यह पता नहीं है, लेकिन मंगलवार को उन्होंने इंटरनेट टेलीफोन के जरिए अमेरिका की टाइम पत्रिका के साथ संपर्क किया. टाइम के साथ अपनी बातचीत में असांज ने यह

Wikileaks - Internetseite Cablegate NO FLASH

राज हुए फाश

साबित होने पर अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के इस्तीफे की मांग की कि वह अमेरिकी राजनयिकों से जासूसी करने की मांग करने के लिए जिम्मेदार हैं. असांज ने कहा, "हां, उन्हें इसके लिए इस्तीफा दे देना चाहिए."

विकीलीक्स ने रविवार को अमेरिकी राजनयिकों द्वारा भेजे गए लगभग ढाई लाख केबल संदेशों को जारी कर दिया था जिनमें गोपनीय दस्तावेज भी थे. इनमें से एक से पता चलता है कि राजनयिकों से संयुक्त राष्ट्र अधिकारियों के बारे में भी सूचना इकट्ठा करने को कहा गया था.

इंटरपोल का रेड नोटिस अंतरराष्ट्रीय वारंट नहीं है. इंटरपोल के अनुसार इसका उद्देश्य प्रत्यर्पण के लक्ष्य से खोजे जा रहे व्यक्ति की गिरफ्तारी में सदस्य देश के पुलिस अधिकारियों की मदद करना है.

मंगलवार को जूलियन असांज के स्वीडिश वकील ब्योर्न हुर्टिग ने कहा था कि वह वारंट को निरस्त किए जाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील करेंगे. इससे पहले दो अदालतों ने वारंट की पुष्टि कर दी है. उन्होंने पेशकश की है कि पुलिस असांज से टेलीफोन, वीडियो लिंक या दूसरे किसी संचार माध्यम से विदेश से पूछताछ कर सकती है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links