1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विकीलीक्स के आरोपों की जांच होः ब्रिटिश उपप्रधानमंत्री

ब्रिटेन के उप प्रधानमंत्री निक क्लेग ने कहा है कि विकिलीक्स के जरिए सामने आए हत्या और दुर्व्यवहार के आरोपों की जांच जरूर की जानी चाहिए. लिबरल डेमोक्रैट नेता क्लेग इराक युद्ध को पहले ही अवैध करार दे चुके हैं.

default

निक क्लेग का कहना है कि इन आरोपों की निश्चित तौर पर जांच की जानी चाहिए. एक इंटरव्यू में निक क्लेग ने कहा, "हम इस पर हो हल्ला मचा सकते हैं कि ये दस्तावेज विकीलीक्स तक कैसे पहुंचे लेकिन मेरे ख्याल से सेना पर लगे आरोप बेहद गंभीर हैं. इन आरोपों के बारे में पढ़ कर दुख होता है." निक क्लेग मानते हैं कि अमेरिकी सरकार को यह तय करना चाहिए कि वह इन आरोपों का कैसे जवाब देते हैं. क्लेग के मुताबिक, "इसके बारे में बताना हमारा काम नहीं है."

विकीलीक्स पर जारी दस्तावेजों में इराक युद्ध के दौरान 15000 ऐसे नागरिकों की मौत का जिक्र है जिसके बारे में पहले कभी भी कहीं चर्चा नहीं हुई.

ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने अपनी आधिकारिक प्रतिक्रिया में इन दस्तावेजों के जारी होने के कारण अपने सैनिकों की जान खतरे में घिरने की शिकायत की है. रक्षा मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है, "हम गोपनीय दस्तावेजों को जारी करने की निंदा करते हैं. इस हरकत की वजह से ब्रिटेन के सैनिकों और उनके सहयोगियों की जान खतरे में पड़ सकती है. इन खुलासों की वजह से हमारे सैनिकों के लिए काम करना और मुश्किल हो सकता है."

Wikileaks / Julian Assange / Irak / USA / London

लंदन में पत्रकारों से बात करते जूलियन असांजे

अमेरिका विकीलीक्स के खुलासों पर कुछ इसी तरह की प्रतिक्रिया पहले ही दे चुका है. उधर इराकी प्रधानमंत्री नूरी अल मलिकी के समर्थकों का मानना है कि विकीलीक्स के जरिए गोपनीय रक्षा दस्तावेजों को जारी करने के पीछे मलिकी को सत्ता में बने रहने से रोकने की साजिश है. प्रधानमंत्री का समर्थन करने वाले अखबार अल बायन ने लिखा है, "विकीलीक्स के जरिए जारी होने वाले दस्तावेजों का चुनाव बहुत ध्यान से किया गया, इन्हें जारी करने के लिए जो वक्त चुना गया उससे पता चलता है कि इसके पीछे राजनीतिक मंशा क्या है."

उधर विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे ने शनिवार को लंदन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया और कहा कि इस तरह की आशंकाएं बिल्कुल निराधार हैं. जूलियन असांजे ने कहा, "किसी भी संवेदनशील जानकारी या जानकारी जुटाने के तरीके का जिक्र नहीं किया गया है और नाटो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भी माना है कि इस तरह के खुलासों से सैनिकों को कोई नुकसान नहीं है."

असांजे ने यह भी बताया कि विकीलीक्स जल्दी ही अफगानिस्तान की जंग से जुड़े गोपनीय दस्तावेजों की दूसरी खेप भी जारी करने वाला है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः वी कुमार

DW.COM

WWW-Links