1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

विकीलीक्स की सूची में भारतीयों जैसे नाम

एक टेलीविजन चैनल ने दावा किया है कि विकीलीक्स को मिली स्विस बैंक खातों की सूची में भारतीयों जैसे सुनाई देने वाले नाम भी हैं. स्विस बैंक के एक पूर्व अधिकारी ने विकीलीक्स को बैंक के खाताधारकों की एक सूची सौंपी है.

default

भारतीय अंग्रेजी समाचार चैनल हेडलाइंस टुडे ने दावा किया है कि इस सूची में भारतीयों के नाम भी शामिल हो सकते हैं. चैनल ने एक सूची दिखाई जिसमें स्विट्जरलैंड के जूलियस बाएर बैंक एंड ट्रस्ट लिमिटेड नामक बैंक के खाताधारकों के नाम हैं. यह सूची बैंक के पूर्व अधिकारी रूडोल्फ एलमर ने विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन अंसाज को दी है.

UBS Bank

चैनल ने दिखाया कि इस सूची में ऐसे नाम भी हैं जो सुनने में भारतीय लगते हैं. हालांकि चैनल ने साफ कहा कि वह इस बात की पुष्टि नहीं कर सकता कि यह सूची सच्ची है या नहीं या फिर इसमें दिए गए खाताधारकों के नाम सही हैं या नहीं. चैनल ने कहा कि उसे नहीं पता कि ये भारतीय जैसे सुनाई देने वाले नाम वाकई भारतीय लोगों के हैं या नहीं.

इस सूची के मुताबिक दो खातों में 432 करोड़ रुपये जमा हैं. इस बारे में एलमर ने चैनल से बातचीत के दौरान कहा कि जूलियस बाएर बैंक का भारत में बड़ा कारोबार है. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि जूलियस बाएर के मालिक का भारत में अच्छा खासा कारोबार है. उन्होंने तो असल में भारत में कुछ निवेश मैनेजर भी नियुक्त किए हैं जिनका मकसद भारत से पैसा जुटाना है."

Bank Credit Suisse in Zürich

जब से विकीलीक्स के हाथ स्विस बैंक की सूची लगने की खबर आई है, भारत के राजनीतिक हलकों में खासी हलचल है. मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी और भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी ने सरकार से मांग की कि स्विस बैंकों में पैसा जमा कराने वाले सभी लोगों के नाम उजागर किए जाएं. गुजरात के आणंद में बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने उम्मीद जताई कि इस बारे में सुप्रीम में याचिका की सुनवाई के बाद सरकार को स्विस बैंकों से पैसा वापस लाना होगा.

सीपीएम ने भी एक बयान जारी कर खाता धारकों के नाम उजागर करने की मांग की. इस बयान में कहा गया, "ये सभी खाते जब्त कर लिए जाने चाहिए और इनमें जमा पैसा देश के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए. भारत सरकार को फौरन यह मामला स्विट्जरलैंड की सरकार और स्विस बैंक असोसिएशन के सामने उठाना चाहिए."

माना जा रहा है कि विकीलीक्स के पास जो सूची है उसमें कम से कम दो हजार लोगों के नाम हैं. इनमें अमेरिका, ब्रिटेन और एशिया के काफी लोगों के नाम हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links