1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वर्ल्ड चैंपियनशिप: मिक्सड डबल्स में भारत अगले दौर में

पेरिस में वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत ने पुरुष युगल और मिश्रित युगल में अपनी चुनौती बरकरार रखी है लेकिन महिला वर्ग में अदिति मुटाटकर टूर्नामेंट से बाहर हो गई हैं.

default

मिक्सड डबल्स में भारत की नौवीं वरीयता प्राप्त ज्वाला गट्टा और वी दीजू को इंग्लैंड के क्रिस एटकॉक और ग्रैबियला व्हाइट को हराने में मशक्कत करनी पड़ी लेकिन आखिरकार जीत उनकी ही हुई. ज्वाला और दीजू की जोड़ी ने मैच 21-6, 14-21, 21-8 से जीत कर दूसरे राउंड में जगह बनाई.

पुरुष युगल मुकाबलों में रुपेश कुमार और सनावे थॉमस की जोड़ी ने नाइजीरिया के ओला फागबेमी और जिनकान इफ्रायमू को 21-8,21-10 से पटखनी दी. रुपेश और थॉमस को 15वीं वरीयता मिली है.

ज्वाला-दीजू की जोड़ी के लिए पहला गेम आसान रहा और उन्होंने 21-6 से उसे जीत लिया. भारतीय जोड़ी ने इंग्लैंड के खिलाड़ियों को गलतियां करने पर मजबूर कर दिया. लेकिन दूसरे गेम में स्थिति बदल गई और एडकॉक-व्हाइट ने दबदबा कायम कर लिया. इस गेम में भारतीय खिलाड़ियों ने गलत शॉट खेलकर प्वाइंट गंवाए. इस वजह से दूसरा गेम 21-14 से एडकॉक-व्हाइट के नाम रहा.

आखिरी गेम में भारतीय जोड़ी ने वापसी की और 21-8 से मैच पर अपनी जीत की मुहर लगा दी. ज्वाला ने मैच के बाद कहा कि वह दबाव में नहीं थीं. "हम दूसरे गेम में सही प्रदर्शन नहीं कर पाए. ऐसा लगा मानो हमने सोच लिया था कि हम मैच जीत जाएंगे और इसी का विपक्षी खिलाड़ियों ने फायदा उठाया. लेकिन अहम मौके पर वापसी कर हमने मैच जीत ही लिया."

लेकिन महिला एकल वर्ग में भारत की अदिति मुटाटकर के लिए वर्ल्ड चैंपियनशिप का सफर समाप्त हो गया. मैच से पहले ही अदिति के लिए ड्रॉ मुश्किल समझा जा रहा था और यह बात सच साबित हुई.

10वें नंबर की खिलाड़ी जापान की एरिको हिरोसे ने सिर्फ 32 मिनट में अदिति मुटाटकर की चुनौती 21-12, 21-16 से खत्म कर दी. मुटाटकर ने मैच के बाद माना कि हिरोसे ने बेहद मजबूत खेल का प्रदर्शन किया. अदिति ने दूसरे गेम में शॉट बदल बदल कर खेल में वापसी की कोशिश की लेकिन वह विफल रहीं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: उभ

DW.COM

WWW-Links