1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वर्ल्ड कप में आज जर्मनी बनाम इंग्लैंड

दक्षिण अफ़्रीका में चल रहे फ़ुटबॉल विश्व कप में आज प्रीक्वार्टर फाइनल में जर्मनी का मुक़ाबला इंगलैंड से है. दोनों ही देशों में जोश का पारा चढ़ रहा है. हारने वाली टीम टूर्नामेंट से बाहर होगी.

default

नेलसन मंडेला की अफ़्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना जिस शहर में हुई थी उस मैंगोंग शहर के मैदान पर जर्मनी और इंग्लैंड जब मुकाबले के लिए उतरेंगे तो अगले 90 मिनट तक दोनों देशों के खेलप्रेमी ही नहीं दुनिया भर के बाकी लोग भी टीवी से अपनी नजरें हटा नहीं पाएंगे. इनके बीच फुटबॉल किसी जंग से कम नहीं.

Screenshot WM 2010 England Deutschland Boulevard Flash-Galerie

ब्रिटिश टेबलॉयड

मुकाबले से ठीक पहले ब्रिटिश कोच ने ये कहकर जर्मनी पर दबाव बढ़ाने की कोशिश की है कि रूनी ठीक हैं और 120 मिनट तक भी मैदान में टिकना पड़ा तो उनके पैर नहीं लड़खड़ाएंगे. फैबियो कपेलो दरअसल जर्मनी पर दबाव ही नहीं अपनी टीम का भरोसा भी बनाए रखना चाहते हैं. इस बार के वर्ल्डकप में रूनी भले ही अब तक नाकाम रहे हैं लेकिन अब सबकी नजरें उन्हीं पर हैं. बात जब नाक बचाने की हो तो सबको रूनी ही दिखते हैं औऱ जर्मनी के खिलाफ मुकाबले में तो उनपर दबाव रहेगा ही. स्लोवेनिया के खिलाफ मैच में जब कोहनी की समस्या से उन्हें मैदान में से हटना पड़ा तो आलोचकों की आवाज़ें बुलंद हो गईं. कोच कपेलो को भरोसा है कि आज रूनी अपने आलोचकों को जवाब अपने बूट से देंगे.

समस्या जर्मनी की भी है कि उसके कई खिलाड़ी चोटिल हैं. काकाउ तो पहले से ही बाहर हैं इसके अलावा श्वाइनटाइगर और बोआतेंग भी ज़ख़्मी हैं. ये कहना अभी मुश्किल है कि आज ये दोनों खिलाड़ी मैदान में उतरेंगे या नहीं.

WM 2010 England Deutschland Boulevard Flash-Galerie

जर्मन टेबलॉयड

ये तो पहले से ही तय था कि दक्षिण अफ्रीका में दोनों टीमों को आपस में भिड़ना होगा लेकिन लोग इस मुकाबले को बाद में होते देखना चाहते थे. जर्मनी सर्बिया से हारने के बाद भी अब तक अपराजेय रही इंग्लैंड की टीम से बेहतर स्थिति में है. आखिरकार उसने दो मैचों में बढ़िया जीत हासिल की है जबकि इंग्लैंड के खाते में अब तक एक ही जीत दर्ज हुई है.

इससे पहले दोनों टीमों की विश्व कप फाइनल में जंग 1990 में हुई थी. तब अंग्रेज टीम को जर्मनों की पेनल्टी किकों की आंच ने जला डाला था. हालांकि 2001 में लंदन में क्वालिफाइंग मुकाबले में अंग्रेज टीम ने जर्मनी पर अब तक की सबसे शानदार 5-1 से जीत दर्ज की थी. दोनों टीमों के बीच हुए ज्यादातर मुकाबले नतीजे देने वाले रहे हैं और टक्कर कांटे की है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एन रंजन

संपादन: महेश झा

संबंधित सामग्री