1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वर्ल्ड कप जीतने के काबिल है भारत

लिटिल मास्टर के नाम से मशहूर महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने कहा है कि 2011 वर्ल्ड कप के लिए भारत के पास संतुलित टीम है जिसमें टूर्नामेंट जीतने की क्षमता है. गावस्कर की प्रशंसकों से अपील, खुले दिल से टीम का साथ दें.

default

सुनील गावस्कर

गावस्कर के मुताबिक धोनी के नेतृत्व में क्षमतावान टीम इंडिया इस धारणा को तोड़ सकती है कि वर्ल्ड कप की मेजबानी करने वाला देश कभी टूर्नामेंट नहीं जीत पाता. "भारतीय टीम के पास अनुभव और युवा खिलाड़ियों का शानदार मिश्रण है और यह बेहद अच्छा संतुलन है. इससे अच्छे संकेत मिलते हैं. इस टीम में दम है कि इस धारणा को झुठला सके कि वर्ल्ड कप का आयोजन करने वाला देश कभी कप नहीं जीत पाता. मुझे लगता है कि इस टीम में वर्ल्ड कप जीतने की पूरी क्षमता है."

प्रदर्शन में सुधार

अमेरिका के बोस्टन शहर में न्यूज एजेंसी पीटीआई के साथ बातचीत में गावस्कर ने कहा कि पिछले डेढ़ साल से भारतीय टीम का प्रदर्शन बेहद अच्छा रहा है. उन्होंने भारतीय टीम के प्रशंसकों से अपील की है कि वर्ल्ड कप के लिए टीम का खुले मन से साथ दिया जाना चाहिए और टीम के चयन से जुड़ी बातों को बार बार दोहरा कर खिलाड़ियों को हतोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए. वैसे टीम से प्रभावित होने के बावजूद गावस्कर उसकी एक कमी क्षेत्ररक्षण को मानते हैं.

Flash-Galerie Yuvraj Singh

वर्ल्ड कप की शुरुआत 19 फरवरी से हो रही है और इसकी मेजबानी भारत, श्रीलंका और बांग्लादेश संयुक्त रूप से कर रहे हैं. गावस्कर का मानना है कि घरेलू मैदानों और परिस्थितियों में खेलने का भारत को फायदा मिलेगा. खिलाड़ियों के पास मौसम और पिच जैसे पहलुओं की अच्छी समझ तो होगी ही, उन्हें दर्शकों का भी जबरदस्त समर्थन मिलेगा. लेकिन टीम के पक्ष में कई बातों के बावूजद गावस्कर मानते हैं कि जनता की अपेक्षाएं खिलाड़ियों की एकाग्रता पर असर डाल सकती है.

गावस्कर के मुताबिक पिछले विश्व कपों के विपरीत इस बार ऑस्ट्रेलिया का दबदबा नहीं है और यह वर्ल्ड कप सभी के लिए खुला है, यानी इसे जीतने का कई टीमों के पास बराबर का अवसर है. गावस्कर का कहना है कि वर्ल्ड कप में सफलता के लिए जरूरी है कि टीम अपने प्रदर्शन में स्थायित्व को बनाए रखे और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करे.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links