1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वर्ल्ड कप को तैयार भारत

भारत की हॉकी टीम नीदरलैंड्स के द हेग में शनिवार से शुरू हो रहे विश्व कप में भारतीयों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए मैदान पर उतरेगी. भारत का पहला मुकाबला बेल्जियम के साथ है.

मौजूदा विश्व रैकिंग में बेल्जियम पांचवें नंबर पर जबकि भारत आठवें स्थान पर है. भारत ने अब तक सिर्फ एक बार 1975 में विश्व कप जीता है. उसके बाद से टीम का स्तर लगातार गिरता गया है और वह ओलंपिक और विश्व कप में ज्यादा चमत्कार नहीं कर पाई है.

भारत ने 1971 में शुरू हुए विश्व कप में तीसरा स्थान हासिल किया था. इसके बाद 1973 में हॉलैंड के एम्सटलवीन में हुए दूसरे विश्व कप में वह मेजबान हॉलैंड से फाइनल में हार गया. दो साल बाद 1975 में मलेशिया के क्वालालंपुर में भारत ने पाकिस्तान को 2-1 से हरा कर एकमात्र विश्व कप जीता. उस सफलता के बाद वह कभी विश्व कप में शीर्ष चार देशों में भी नहीं आ पाया.

दिल्ली में 2010 में हुए विश्व कप में भी भारत घरेलू दर्शकों के जोश का लाभ नहीं उठा पाया और अर्जेंटीना से हार कर आठवें स्थान पर रहा. लेकिन पिछले चार वर्षों में भारतीय हॉकी में बहुत कुछ बदला है और टीम से द हेग में चमत्कार की उम्मीद की जा रही है. उसे पूल ए में विश्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, बेल्जियम, स्पेन और मलेशिया के साथ रखा गया है.

सचिन की शुभकामना

विश्व कप के लिए रवाना होने से पहले कप्तान सरदार सिंह के आग्रह पर सचिन तेंदुलकर ने दिल्ली में भारतीय हॉकी खिलाड़ियों से मुलाकात कर उन्हें जीत का गुरुमंत्र दिया. इसके अलावा 1975 के विश्व कप टीम के कप्तान अजीत पाल सिंह और दूसरे खिलाड़ियों ने अपने शुभकामना संदेश में टीम के मौजूदा खिलाड़ियों से कहा कि यदि वे खुद में आत्मविश्वास रखे तो सफलता उनके कदम चूमेंगी.

कप्तान सरदार सिंह ने कहा, "हमें इस टूर्नामेंट का बेताबी से इंतजार है. मुझे इस बात का गर्व है कि मैं दूसरी बार विश्व कप में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रहा हूं. हम एक टीम के रूप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे और विरोधियों को कडी चुनौती देंगे.

रणनीति पर भरोसा

उन्होंने कहा, "हमारा पहला मैच बेल्जियम के साथ है और हम तैयार है. हम अपनी रणनीति और योजना पर डटे रहेंगे जो हमारे लिये कोचों ने तैयार की है. मैं इस समय सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि खिलाडी प्रेरित हैं और उन्हें टूर्नामेंट में अच्छा प्रर्दशन करने का विश्वास है."

टीम के प्रमुख कोच टैरी वॉल्श ने कहा, "खिलाडियों का मनोबल मजबूत है और वे नीदरलैंड्स की परिस्थितियों से जल्द अभ्यस्त हो गए हैं. मुझे यकीन है कि हमारी टीम पहले मैच से विजयी शुरुआत करेगी."

विश्व कप में भारतीय किले का दारोमदार संभालने वाले डिफेंडर और पेनाल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ वीआर रघुनाथ का कहना है, "हम माहौल से पूरी तरह अभ्यस्त हो चुके हैं. विश्व कप शुरू होने के लिए हम सब काफी उत्साहित हैं और टीम ने पिछले कुछ अभ्यास सत्रों में अच्छा प्रदर्शन किया है. हम सब तनावमुक्त रहने और पहले खेल पर ध्यान केंद्रित करने का प्रयास कर रहे हैं. हमने पिछले अभ्यास सत्रों में अपने डिफेंस और पेनाल्टी कॉर्नर में सुधार के लिए काफी काम किया है. मुझे विश्वास है कि हम बेहतर परिणाम देंगे."

एजेए/एएम (वार्ता)

संबंधित सामग्री