1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

वर्ल्ड कप का टिकट मिलना शुरू

ज्यादा दिन नहीं हुए जब ब्राजील खेल आयोजनों पर विरोध प्रदर्शनों की आंच से गर्म था लेकिन मंगलवार को वर्ल्ड कप के टिकटों की बिक्री शुरू हुई तो भारी उत्साह में विरोध का नामोनिशान नहीं दिखा.

ब्राजील में 2014 फुटबॉल वर्ल्ड कप के लिए टिकटों की बिक्री मंगलवार को शुरू हो गई. फुटबॉल की अंतरराष्ट्रीय संस्था फीफा के मुताबिक बिक्री शुरू होने के पहले घंटे में ही 14000 टिकटों की मांग पहुंच गई.

फीफा ने बताया है कि पहले दौर में 81,821 टिकटों की बिक्री में तकनीकी रूप से कोई दिक्कत नहीं हुई. इन टिकटों को दुनिया भर से फीफा डॉट कॉम पर पहले से ऑर्डर कर बुक किया जा सकता है. यह टिकट 2014 में 12 जून से 13 जुलाई के बीच होने वाले वर्ल्ड कप के मैचों के लिए हैं. अब तक टिकटों के लिए जो मांग आई है वो प्रमुख रूप से ब्राजील, अर्जेंटीना, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन से है.

टिकटों की बिक्री का पहला दौर 10 अक्टूबर तक चलेगा. इस दौरान 10 लाख टिकट बिक्री के लिए मौजूद हैं. वर्ल्ड कप के लिए कुल 30 लाख टिकटें बेची जाएंगी. मौजूद टिकटों से ज्यादा की मांग आने पर लॉटरी सिस्टम के जरिए टिकटें दी जाएंगी. हर खरीदार ज्यादा से ज्यादा चार टिकटें खरीद सकता है, वो भी सिर्फ सात मैचों के लिए भले ही वह अपना ऑर्डर कभी भी दे.

ब्राजील से बाहर के फुटबॉल प्रेमियों को सबसे सस्ते टिकट के लिए कम से कम 70 यूरो की रकम चुकानी होगी, अमेरिकी डॉलर में यह रकम 93 डॉलर बैठती है. सबसे महंगा टिकट 13 जुलाई 2014 को होने वाले वर्ल्ड कप के फाइनल मैच का है. मरकाना स्टेडियम में होने वाले इस मुकाबले के लिए एक टिकट की कीमत 755 यूरो रखी गई है. वर्तमान में रुपये की जो कीमत है उसके हिसाब से यह रकम करीब 64 हजार रुपये होगी.

2010 में दक्षिण अफ्रीका में हुए वर्ल्ड कप की तरह ही इस बार भी सबसे सस्ती टिकटें चौथे दर्जे की हैं, जिन्हें स्थानीय लोगों के लिए सुरक्षित रखा गया है. छात्रों, 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और सरकारी सहायता पाने वाले नागरिकों को वर्ल्ड कप की टिकट 10 यूरो में मिलेगी.

पिछले दिनों ब्राजील में लोगों ने देश में नागरिकों की परेशानी की ओर ध्यान न देकर खेल आयोजनों पर भारी रकम खर्च के लिए कंफेडरेशन कप के दौरान सरकार को जम कर खरीखोटी सुनाई. इस दौरान बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन भी हुए. अगले साल फुटबॉल का वर्ल्ड कप और उसके दो साल बाद अगले ओलंपिक का आयोजन भी यहीं होना है.

एनआर/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री