1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

वरुण और सिद्धार्थ बनेंगे राम लखन

स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर से बॉलीवुड में डेब्‍यू करने वाले वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्‍होत्रा एक बार फिर बड़े पर्दे पर साथ नजर आएंगे. वरुण और सिद्धार्थ राम लखन के रीमेक में काम करेंगे.

बॉलीवुड के जानेमाने फिल्मकार करण जौहर राम लखन का रीमेक बनाने जा रहे हैं. फिल्म का निर्देशन रोहित शेट्टी करेंगे. चर्चा है कि फिल्म के लिए वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्होत्रा की जोड़ी को चुना गया है.

अब तक इस फिल्म के लिए अर्जुन कपूर और रणवीर सिंह के नाम लिए जा रहे थे. वरुण ने हाल ही फिल्‍म बदलापुर और एबीसीडी 2 जैसी फिल्‍मों में अपने अभिनय से दर्शकों को अपना फैन बना लिया है. वहीं सिद्धार्थ ने एक विलेन फिल्‍म में दमदार अभिनय किया है. दोनों की जोड़ी को दर्शक भी एक साथ पर्दे पर देखना चाहते हैं. ऐसे में वरुण सिद्धार्थ की जोड़ी हिट फिल्म का फॉर्मूला हो सकती है.

लखन को याद आया स्कूल

सुभाष घई निर्मित-निर्देशित 1989 की फिल्म राम लखन में अनिल कपूर, जैकी श्रॉफ, माधुरी दीक्षित, डिंपल कपाड़िया, राखी और अमरीश पुरी ने मुख्‍य भूमिका निभाई थी. अनिल कपूर ने हाल ही में पीएंडजी शिक्षा कार्यक्रम के दौरान कहा कि वे स्कूली दिनों में पीछे की सीटों पर बैठने वाले छात्र थे और बहुत शरारती भी थे, "मैं पिछली सीट पर बैठने वाला बच्चा था. मेरे पसंदीदा शिक्षक वे थे, जो मुझ पर कभी चिल्लाते नहीं थे और मेरी गलती पर मुझे आसानी से माफ कर देते थे."

अनिल कपूर ने कहा कि एक बच्चे की जिंदगी में शिक्षा बहुत अहम भूमिका निभाती है, "यह उन्हें बड़ा होकर सफल व्यक्ति बनने में मदद करती है. मेरे तीन बच्चे हैं और माता-पिता होने के नाते हम उन्हें अच्छी शिक्षा उपलब्ध कराने का महत्व समझते हैं, जो उन्हें भविष्य में स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने में उनकी मदद करे." अपने बचपन को याद करते हुए उन्होंने कहा, "मेरे लिए स्कूल के दिन बहुत खास हैं क्योंकि मैं स्कूल में पहले दिन जिन बच्चों से मिला, वे अब भी मेरे दोस्त हैं. मेरे पास स्कूल से जुड़ी कुछ बेहतरीन यादें हैं. हमने स्कूल में साथ में जो मौज-मस्ती और पढ़ाई की और खेल खेले, वे सब याद हैं."

अनिल कपूर ने कहा कि पूरी फिल्मी दुनिया ही उनके लिए एक परिवार की तरह है, जहां उन्हें कई लोगों से समर्थन मिला है और उन्होंने कई लोगों को समर्थन दिया है और उन्हें विश्वास है कि यह सिलसिला इसी तरह चलता रहेगा.

आईबी/एमजे (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री