1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

वनडे सीरीज खेल सकते हैं दागी खिलाड़ी: खेल मंत्री

जांच के बीच मैच फिक्सिंग के मामले में दखल देते हुए पाकिस्तान के खेल मंत्री ने आरोपी खिलाड़ियों का बचाव किया. एयाज जाखरानी का कहना है कि आरोपी खिलाड़ी वनडे सीरीज में खेल सकते हैं. पुलिस ने मांगे ठोस सबूत.

default

सलमान बट, मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमेर को टीम से बाहर किए जाने के एलान के बाद खेल मंत्री एयाज जाखरानी ने कहा, ''वे इसलिए नहीं खेल रहे हैं क्योंकि उन्हें शायद जांचकर्ताओं के पास जवाब देने जाना है. तीनों खिलाड़ी उस शहर में हैं ही नहीं, जहां मैच होने है. ऐसे में जाहिर है कि वह टी-20 नहीं खेलेंगे लेकिन वनडे में उनकी वापसी हो सकती है.'' उनके मुताबिक खिलाड़ी लंदन में है, इसीलिए टी-20 नहीं खेल रहे हैं.

जाखरानी मैच फिक्सिंग के केंद्र में आए युवा गेंदबाज मोहम्मद आमेर का भी बचाव करते नजर आए. उनका कहना है कि आमेर की प्रतिभा को देखते हुए उन्हें फंसाने की कोशिश हो रही है. खेल मंत्री ने कहा, ''सबूत मिलने के बाद ही हम बता सकेंगे कि यह मैच फिक्सिंग है या स्पॉट फिक्सिंग. या फिर युवा प्रतिभाशाली मोहम्मद आमेर के खिलाफ साजिश हो रही है.''

इससे पहले पाकिस्तानी टीम के मैनेजर यावर सईद ने कहा कि बट, आसिफ और आमेर को टीम से बाहर कर दिया गया है. दो टी-20 मैचों के बाद होने वाली वनडे सीरीज के लिए तीन अतिरिक्त खिलाड़ियों को बुलाने की तैयारी की जा रही है. टीम 16 खिलाड़ियों के साथ इंग्लैंड दौरे पर निकली थी. लेकिन मैच फिक्सिंग के आरोप के चलते तीन खिलाड़ियों को बाहर करने के बाद अब 13 खिलाड़ी ही टीम में बचे हैं.

आरोपी खिलाड़ियों को निलंबित नहीं किया गया है. किसी तरह की कार्रवाई करने से पहले स्कॉटलैंड यार्ड की जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है. पाकिस्तान सरकार का भी कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद ही खिलाड़ियों के खिलाफ कोई कदम उठाया जाएगा. जाखरानी के मुताबिक उन्हें अब भी ठोस सबूतों का इंतजार है. उन्होंने कहा, ''अभी तक स्कॉटलैंड यार्ड ने जो भी सबूत दिए हैं, उनसे कुछ भी साबित नहीं होता है.''

कई खेल पत्रकारों और सूत्रों का कहना है कि मैच फिक्सिंग मामले में पाकिस्तान के कुछ खिलाड़ियों का फंसना तय है. देखने वाली बात यह है कि पीसीबी के अधिकारी तीन में किस खिलाड़ी को बचा पाते हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: ए कुमार

DW.COM

WWW-Links