1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

लड़की हो कर कंडोम खरीदती हो!

कंडोम के विज्ञापन में लड़कियों का दिखना सामान्य है. लेकिन वही लड़की जब केमिस्ट के पास कंडोम खरीदने पहुंच जाए, तो आखिर भारत के लोगों को इतनी हैरानी क्यों होती है?

वर्ल्ड एड्स डे के मौके पर देश और दुनिया की सरकारें कंडोम के इस्तेमाल और उसकी एहमियत लोगों को समझाने पर अरबों का खर्च कर रही हैं. लेकिन आम लोगों की मानसिकता क्या है, यह इस वीडियो में साफ देखने को मिलता है.

लड़की के दुकान पर कंडोम मांगने पर आसपास के सब लोग हैरान हो जाते हैं. लेकिन लड़की के जाने के बाद वहां मौजूद सभी पुरुष आपस में इसी विषय पर चर्चा करते हुए जरा भी नहीं शर्माते. बल्कि अधिकतर पुरुष यही सवाल करते दिखते हैं कि महिला में "शर्म" ही नहीं है. अगर पुरुष खुलेआम कंडोम पर बातचीत कर सकते हैं, तो महिला उसे खरीद क्यों नहीं सकती? आखिरकार जरूरत तो दोनों की ही है!

आपकी क्या राय है? अपनी राय नीचे के खाने में दें.

DW.COM

संबंधित सामग्री