1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

लैंड हुआ पायलटों का दुख

पालयटों की हालत ट्रक ड्राइवरों से भी बुरी है, अधिकांश अमेरिकी पायलट यह कहने लगे हैं. पायलटों के मुताबिक खर्चे कम करने चक्कर में उनकी हालत बदतर होती जा रही है. कई अमेरिकियों ने अपना दुखड़ा रोया.

default

हवाई जहाज में सवार होते ही आप पायलट की आवाज सुनते हैं. वह आपको बताता है कि आगे का सफर कैसा रहेगा, रास्ते में मौसम कैसा रहेगा. लेकिन ऐसी कई तकलीफें हैं जो पायलट कभी यात्रियों से बांट नहीं पाते. इसकी पड़ताल अमेरिका की प्रतिष्ठित पत्रिका रीडर्स डाइजेस्ट ने की.

पत्रिका ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय रूट पर उड़ान भरने वाले 17 पायलटों से बातचीत की. कॉकपिट में जिनके हाथ में यात्रियों की जान रहती है, कई बार वे पायलट बेहद परेशान रहते हैं. एक बड़ी अमेरिकी एयरलाइन के पायलट ने कहा, ''सच्चाई यह है कि हम बुझे हुए से रहते हैं. कई बार हमें 16 घंटे लगातार बिना ब्रेक के काम करना पड़ता है. इतना काम तो ट्रक ड्राइवर भी नहीं करते. ट्रक ड्राइवर तो रास्ते में कहीं रुक भी सकते हैं, लेकिन हम तो बादलों में विमान नहीं रोक सकते.''

एक अन्य पायलट ने कहा कि खर्चे में कटौती के नाम पर एयरलाइन कंपनियां सस्ते होटल दे रही हैं. यूएएस एयरवेज के कैप्टन जैक स्टीफन के मुताबिक, ''जब आप सात बजे सुबह विमान में चढ़ते हैं तो आप चाहते हैं कि आपका पायलट एकदम तरोताजा हो. उसने पर्याप्त आराम किया हो. लेकिन अब हमें जिस तरह के होटलों में रखा जा रहा है उनमें अच्छी नींद आना बहुत मुश्किल होता है. ऐसी कई रातें होती हैं जब हम बिस्तर पर सिर्फ करवटें ही बदलते रहते हैं. कई होटलों के आस पास बहुत शोर रहता है.''

खर्च कम करने के लिए फ्लाइट के दौरान भी पायलटों पर दबाव रहता है. एक पायलट ने कहा, ''मुझ पर हमेशा कम ईंधन भरने का दबाव डाला जाता है. कई बार जब आप खराब मौसम या देरी का शिकार होते हैं तो कम ईंधन की वजह से मुश्किल होने लगती है. कई बार तो विमान को नजदीक के किसी भी एयरपोर्ट पर उतारना पड़ता है.''

इस बातचीत के आधार पर पत्रिका ने कहा है कि पायलट बहुत जोखिम भरी परिस्थितियों से घिरे रहते हैं. पत्रिका के मुताबिक ऐसी परिस्थितियों से दो चार होने वाले पायलटों को अक्सर यात्री मनोवैज्ञानिक मदद पहुंचा सकते हैं. लेख में कहा गया है, ''ज्यादातर समय पायलट का हुनर बढ़िया लैंडिंग से जांचा जाता है. अगर बढ़िया लैंडिंग हुई है तो विमान से निकलते वक्त आपको कॉकपिट गेट पर खड़े पायलट की सराहना करनी चाहिए.'' इसके लिए ''धन्यवाद, उड़ान शानदार रही'', ''बढ़िया लैंडिंग थी'' जैसे वाक्य ही उनका मूड हल्का कर सकते हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: वी कुमार

DW.COM

WWW-Links