1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

'लेह में चीनी सेना के घुसपैठ की खबर बेबुनियाद'

भारत ने जम्मू कश्मीर सरकार के हवाले से लेह में चीनी सेना के घुसपैठ के बारे में मीडिया में चल रही खबरों को बेबुनियाद बताया है. सरकार ने कहा है कि लेह और देमचौक में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन में मतभेद है.

default

भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, "सरकार ने मीडिया में चल रही खबरें देखी है जिनमें जम्मू कश्मीर में लेह जिले देमचौक चीनी सेना के घुसपैठ की बात कही जा रही है. ये खबरें बेबुनियाद और सच्चाई से दूर हैं. चिंता की कोई बात नहीं है. ये याद रखा जाना चाहिए कि भारत और चीन के बीच इस इलाके में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मतभेद है."

Indien Flut

मीडिया ने लेह के उप उच्चायुक्त के बयान के हवाले से कहा है, "चीनी सेना ने पिछले अक्टूबर में यहां चल रहे निर्माण के काम पर आपत्ति जताई थी. इस मामले को भारत तिब्बत सीमा पुलिस और सेना की जानकारी में डाला गया जो यहां की पहरेदारी करते हैं लेकिन इसके बावजूद उन्होंने हमसे काम रोकने को कहा."

समाचार एजेंसी पीटीआई को मिली एक आधिकारिक रिपोर्ट के मुताबिक चीन की सेना पीपल्स लिबरेशन आर्मी के मोटरसाइकिल सवार जवान देमचोक के गोमबिर इलाके में घुस आए और वहां काम कर रहे मजदूरों को धमकी दी. यहां पर चल रहे काम को राज्य के ग्रामीण विकास विभाग ने मंजूरी दी थी. ये रिपोर्ट नागरिक प्रशासन के अधिकारियों, सेना, केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों और आईटीबीपी के अधिकारियों के बीच बैठक के बाद तैयार किया गया. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि गोमबिर गांव में दो लाख रुपये के खर्च से बस पकड़ने आने वालों के लिए यात्री पड़ाव बनाया जा रहा था. पड़ाव गृह मंत्रालय के सीमा क्षेत्र विकास योजना के तहत बनाया जा रहा था.रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी सेना के जवान यहां आए और ठेकेदार से काम रोकने को कहा.

Gletscherschmelze im Himalaya

भारतीय विदेश सचिव निरुपमा राव ने पत्राकारों से कहा है कि इस तरह के मुद्दों को उछालने से मीडिया को बचना चाहिए. उनका कहना है कि इस मुद्दे पर दोनों देशों के विचारों में अंतर है.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links