1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ली ने जर्मनी को ड्रीम पार्टनर बताया

जर्मनी के दौरे पर आए चीन के प्रधानमंत्री ली केचियांग ने लॉजिस्टिक, शिक्षा और मेडिकल क्षेत्र में जर्मन उद्यमों के लिए बाजार खोलने की पेशकश की है तो चांसलर अँगेला मैर्केल ने ली के साथ मानवाधिकारों पर चर्चा की.

रविवार की बातचीत के बाद ली और मैर्केल सोमवार सुबह नाश्ते पर मिले. मानवाधिकारों और कला की आजादी पर बातचीत के दौरान चांसलर ने सरकार विरोधी कलाकार आई वेईवेई का मामला भी उठाया. सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि जर्मन सरकार को इस पर संतोष है कि चीन भी मानवाधिकारों के संवाद को गहनता के साथ जारी रखना चाहता है. एक साझा बयान में दोनों देशों की सरकारों ने कानून सम्मत राज्य और मानवाधिकारों के सिद्धांत पर जोर दिया है.
ली और मैर्केल की मुलाकात के दौरान दोनों देशों की कंपनियों ने आर्थिक समझौतों पर दस्तखत किए. इनमें सीमेंस, फोल्क्सवागेन, कियोन और बीएएसएफ कंपनियां शामिल हैं. बातचीत से जुड़े सूत्रों का कहना है कि चार से पांच अरब यूरो का सौदा हुआ है. शुक्रवार को एयर चाइना ने एयरबस से 100 नए विमान खरीदने की घोषणा की थी. चीनी प्रधानमंत्री ने यूरोपीय एकीकरण और यूरो के लिए समर्थन की घोषणा करते हुए कहा, "हम साथ हैं, यदि यूरोप साथ रहेगा और यूरो मजबूत रहेगा." ली ने कहा कि स्थिर यूरोप सिर्फ यूरोप के लिए नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए फायदेमंद है.

Traumpartner Philipp Roesler Li Keqiang

रोएसलर और ली


सोमवार को चीनी प्रधानमंत्री ने जर्मन और चीनी कारोबारियों की एक बैठक को संबोधित किया. जर्मनी के वाणिज्य मंत्री फिलिप रोएसलर और प्रमुख कारोबारियों के साथ दोपहर के खाने पर चीनी प्रधानमंत्री ने कहा कि चीन अपने बाजार को विदेशी कारोबारियों के लिए खोलेगा और सुधारों को आगे बढ़ाएगा. ली ने कहा कि देश के सर्विस सेक्टर के विस्तार में जर्मन कंपनियों को प्राथमिकता दी जाएगी. उन्होंने कहा, "मेड इन चाइना बनने के दौर में है, मेड इन जर्मनी परिपक्व हो चुका है. यदि हम दोनों को आदर्श तरीके से एक दूसरे से जोड़ें तो उससे ड्रीम पार्टनर बनेगा." ली ने कहा कि उनके देश को और विकास के लिए बाजार को खोलने और सुधारों के अलावा विदेशी कंपनियों के साथ सहयोग की जरूरत है.
चीन के नए प्रधानमंत्री अपने पहले विदेशी दौरे पर यूरोपीय संघ में सिर्फ जर्मनी का दौरा कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि विदेशी कंपनियां निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा की उम्मीद कर सकते हैं, बौद्धिक संपदा की पूरी सुरक्षा की जाएगी. "हम इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते, यह चीन का रणनैतिक फैसला है." चीनी प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके बिना चीन के कारोबारियों का नए उत्पाद बनाने का उत्साह भी घटेगा. ली ने कहा कि चीन और जर्मनी दोनों ही कारोबार में संरक्षणवाद के खिलाफ हैं, लेकिन उन्होंने यूरोपीय संघ के साथ सोलर विवाद की ज्यादा चर्चा नहीं की.

Chinas Premier Li Keqiang 27.05.2013 Frühstück Kanzleramt

चांसलर के साथ नाश्ता


इसके पहले उप चांसलर रोएसलर ने चीन से बाजार को और खोलने की मांग की और चीन के निवेशकों से जर्मनी में सक्रिय होने का आह्वान किया. रोएसलर ने चीन के सोलर उत्पादों पर दंडात्मक शुल्क लगाने का विरोध किया और कहा कि ब्रसेल्स में जर्मनी ने इसका विरोध किया है. रोएसलर ने कहा कि चीन पर प्रतिबंध लगाने की कोई जरूरत नहीं है, खुले बाजार और निष्पक्ष कारोबार से दोनों दोशों का फायदा होता है. उन्होंने चीन में सामाजिक आजादी की भी वकालत की.
रोएसलर ने कहा कि चीन के नए प्रधानमंत्री सुधारनीति के जारी रहने का समर्थन करते हैं और विकास से शहरीकरण की नई चुनौतियां आएंगी. तेजी से बढ़ते मध्यवर्ग की मांगें बढ़ रही हैं. जर्मन नेता ने कहा कि जर्मन उद्योग पर्यावरण, ऊर्जा और ढांचागत संरचना के क्षेत्र में चुनौतियों का सामना करने की हालत में हैं. रोएसलर ने कहा, "मैं अपना हाथ इस बात के लिए आग पर रखने के लिए तैयार हूं कि जर्मन उद्योग पर भरोसा किया जा सकता है." उन्होंने कहा कि चीनियों का जर्मनी में निवेशकों के रूप में भी स्वागत है.
ली ने स्वीकार किया कि चीनी कारोबारी अब तक जर्मनी में बहुत कम निवेश कर रहे हैं. जर्मन उद्योग के एशिया प्रशांत आयोग के अध्यक्ष और सीमेंस के प्रमुख पेटर लोएशर ने इस बात की ओर ध्यान दिलाया कि चीनी कारोबारियों ने अब तक जर्मनी में सिर्फ 1.2 अरब यूरो का निवेश किया है, जबकि जर्मन उद्योग ने चीन में 35 अरब यूरो का निवेश किया है. ली ने कहा कि चीन और जर्मनी तथा चीन और यूरोप की संरचनाओं में समन्वय की कोशिश हो रही है, अंतरिम मुश्किलों को दूर कर लिया जाएगा.

Chinas Premier Li Keqiang 27.05.2013 SPD Gabriel Steinbrück

श्टाइनब्रुक के साथ ली


चीन में इस साल की पहली तिमाही में विकास दर 7.7 प्रतिशत रही है. चीन का कहना है कि वह 2020 तक प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पादन दोगुना करना चाहता है. इसके लिए औसत सात प्रतिशत विकासदर की जरूरत होगी. इस विकास में जर्मन कंपनियां भी योगदान दे रही हैं. कार कंपनी बीएमडबल्यू नए कारखानों में निवेश कर रहा है. चीन में बीएमडब्ल्यू की ज्वाइंट वेंचर कंपनी बीबीए कारखानों के लिए 80 करोड़ यूरो के सामान खरीदेगा. बीबीए के इस समय दो कारखाने हैं. 2012 से बीएमडब्ल्यू चीन में कारों के लिए मशीन भी बना रहा है.
अपने जर्मनी दौरे पर चीनी प्रधानमंत्री ने एसपीडी अध्यक्ष जिगमार गाब्रिएल और पार्टी के चांसलर पद के उम्मीदवार पेयर श्टाइनब्रुक से भी भेंट की. ली के साथ भेंट के बाद श्टाइनब्रुक ने कहा कि एसपीडी चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साथ मानवाधिकारों की बातचीत चलाएगी. चीनी पार्टी के नेताओं के साथ जून में बैठक होगी.
एमजे/एमजी (डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM