1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

लाहौर में मस्जिदों पर हमले, 56 मरे

लाहौर में अल्पसंख्यक मुसलिम अहमदी समुदाय की दो मस्जिदों पर हुए हमले में कम से कम 56 लोग मारे गए हैं. बंदूकधारियों ने जुम्मे की नमाज़ के बाद ही गोलियों और ग्रेनेड से हमला बोल दिया. कुछ लोगों को बंधक भी बनाया गया है.

default

शहर के उच्च प्रशानिक अधिकारी सज्जाद भुट्टा ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि गढ़ी शाहू मस्जिद पर हुए हमले में ही 40 से 50 लोग मारे गए हैं. मॉडल टाउन इलाके में स्थित मस्जिद पर हुए दूसरे हमले में उन्होंने मरने वालों की संख्या 16 बताई. इस तरह दोनों हमलों में 56 लोग मारे गए हैं. इन हमलों में लगभग 40 लोग घायल भी हुए हैं. भुट्टा के मुताबिक मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है क्योंकि घायलों में से कई की हालत गंभीर है.

बताया जा रहा है कि गढ़ी शाहू में अब भी गोलीबारी जारी है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हैदर अशरफ ने बताया, "कुछ लोगों को बंधक बनाया गया है और उनकी जान को खतरा है. हम लोग हमले की योजना बना रहे हैं."

तालिबान और अल कायदा से जुड़े एक उग्रवादी गुट ने हमलों की ज़िम्मेदारी ली है. मीडिया को भेजे एक संदेश में कहा गया है, "हम अहमदियों को इन हमलों के ज़रिए आखिरी चेतावनी देते हैं जो पैगंबर मोहम्मद को आखिरी पैगंबर नहीं मानते. अहमदी मुजाहिदीनों के खिलाफ षडयंत्रों में शामिल रहे हैं. यूट्यूब और फेसबुक पर पैगंबर मोहम्द के कार्टून बनाने के काम में भी वे यहूदियों का साथ देते हैं. या तो वे पाकिस्तान को छोड़ दें या फिर मरने के लिए तैयार रहें. "

मॉडल टाउन इलाके में जिस मस्जिद पर पहले हमला किया गया, वहां पुलिस के मुताबिक एक हमलावार मारा गया है जबकि दूसरे को गिरफ्तार कर लिया गया है. वहां अभियान पूरा हो गया है और लगभग एक हज़ार लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. लेकिन गढी शाहू में अभियान ज़ारी है. लाहौर में हाल के महीनों में कई बड़े हमले हुए हैं लेकिन अहमदियों पर होने वाला यह पहला बड़ा हमला है. उन्हें पाकिस्तान में 1974 में गैर मुसलमान घोषित कर दिया गया था.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ईशा भाटिया

संबंधित सामग्री