1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

लाइफस्टाइल के भरोसे कॉफी का चेन

पिज्जा हट और मैकडोनल्ड के बाद अब कॉफी की चुस्की के शौकीन मध्यवर्ग को अपनी ओर खींचने के लिए स्टारबक्स भारतीय बाजार में पहुंच रहा है. उसकी साझेदारी भारत में कॉफी की सबसे बड़ी उत्पादक कंपनी टाटा कॉफी के साथ है.

default

स्टारबक्स को भारतीय मध्यवर्ग की बदलती हुई लाइफस्टाइल पर भरोसा है. लेकिन नए बाजारों के लिए स्टारबक्स के वाइस प्रेसिडेंट अरुण भारद्वाज कहते हैं कि भारत में कंपनी की स्ट्रैटेजी के बारे में बात करना अभी जल्दबाजी होगी. वैसे इतना तय है कि स्टारबक्स की कॉफी भी कुछ भारतीय अंदाज में पेश की जाएगी, जिस तरह पिज्जा हट और मैकडोनल्ड का भारतीयकरण हुआ है.

वैसे तो भारत को परंपरागत रूप से चाय पीने वालों का देश माना जाता है, लेकिन खासकर दक्षिण भारत के तमिलनाडु जैसे प्रदेशों में कॉफी पीने की एक लंबी परंपरा है. इंडियन कॉफी हाउस चेन की ओर से पिछले 53 सालों से महानगरों में कॉफी हाउस चलाए जा रहे हैं. कभी बुद्धिजीवियों के जमघट के लिए मशहूर ये कॉफी हाउस इस बीच अपनी लोकप्रियता खो बैठे हैं, और अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

Starbucks Becher

दुनिया भर में कई शाखाएं

स्वाद नहीं शान की चुस्की

छोटी दुकानों में दस रुपये में भी कॉफी का एक प्याला मिल जाता है, लेकिन इन नए वेस्टर्न कैफे में एस्प्रेसो या कापुचिनो के प्याले की कीमत 75 रुपए तक हो सकती है. ऐसी बात नहीं है कि शहरी मध्यवर्ग का जायका बदल गया है और उन्हें कापुचिनों अचानक स्वादिष्ट लगने लगा है, लेकिन उन्हें पीना "सॉफिस्टिकेटेड" है, और पीने वाने को लगता है कि मामला थोड़ा वेस्टर्न है.

कॉफी के विशेषज्ञ हरीश बिजूर का कहना है कि चाय के मुकाबले एस्प्रेसो वाली कॉफी बनाना थोड़ा जटिल है, और यह भी एक वजह है कि इसे "सॉफिस्टिकेटेड" समझा जाता है.

Steuermann Kaffee?

भारतीय स्टाइल की कॉपी

कड़ी प्रतिस्पर्धा, लेकिन संभावना भी

लेकिन स्टारबक्स को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा. भारतीय चेन कैफे कॉफी डे की सारे देश में एक हजार से अधिक शाखाएं हैं, इसके अलावा विदेशी मालिकाने के चे बारिस्टा लावाजा और कोस्टा कॉफी पहले से ही भारतीय बाजार में मौजूद हैं और अपने चेन का विस्तार करना चाहते हैं. ब्रिटिश कंपनी कोस्टा कॉफी की इंटरनेशनल मार्केटिंग विभाग की प्रमुख मिता पाधी का कहना है कि उन्हें स्टारबक्स के आने से कोई चिंता नहीं है. दूसरे बाजारों में हम सफलता के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं. वह कहती हैं, ''कैफे कॉफी डे के मार्केटिंग प्रधान के रामकृष्णन कहते हैं कि भारत के बाजार में इतनी संभावना है कि प्रतिस्पर्धा से डरने की कोई वजह नहीं है. वे ध्यान दिलाते हैं कि सिर्फ 22 फीसदी शहरी नौजवान कॉफी पीने जाते हैं. यह संख्या काफी बढ़ सकती है.''

इस सबके बावजूद भारत चाय पीने वालों का देश बना रहेगा. भारत के टी बोर्ड और कॉफी बोर्ड की सूचनाओं के अनुसार देश में सात लाख टन चाय और सिर्फ 75 हजार टन कॉफी की खपत है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उ भट्टाचार्य

संपादन: ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री