1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ललित मोदी की याचिका पर फैसला कल

आईपीएल के निलंबित कमिश्नर ललित मोदी की याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट गुरुवार को फैसला सुनाएगा. अपने खिलाफ बीसीसीआई की कार्रवाई को ललित मोदी ने अदालत में चुनौती दी है. मोदी का कहना है कि उन्हें बोर्ड से इंसाफ की उम्मीद नहीं.

default

ललित मोदी की अगुवाई में भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने ढाई साल पहले आईपीएल लीग की शुरुआत की थी, जो रातों रात बुलंदियों तक पहुंच गया और अचानक सैकड़ों हजार करोड़ रुपये बनाने की मशीन बन गया. लेकिन बाद में आरोप लगे कि मोदी ने इसकी आड़ में कई अनियमिततातएं की थीं. इस साल तीसरा आईपीएल खत्म होने के बाद मोदी को सस्पेंड कर दिया गया और उनके खिलाफ बीसीसीआई कार्रवाई कर रहा है.

मोदी को तीन बार नोटिस जारी किया गया और उन्होंने तीनों के जवाब भी बोर्ड को भेज दिए. लेकिन उनका मानना है कि बोर्ड से उन्हें न्याय नहीं मिल सकता. इसके बाद उन्होंने भारतीय क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की. मोदी के वकील विराग तुलजापुरकर का कहना है कि मोदी के खिलाफ बीसीसीआई की अनुशासनात्मक समिति जांच कर रही है और उससे निष्पक्ष और ईमानदार न्याय की अपेक्षा नहीं की जा सकती है.

Die Cheerleader des indischen Cricketteam Royal Challengers

समिति की बैठक 16 जुलाई को होनी है और उसने मोदी से कहा है कि वह भी इसमें पेश हों. लेकिन ललित मोदी ने मांग की थी कि मामले की जांच किसी बाहरी और स्वतंत्र तरीके से कराई जानी चाहिए. मौजूदा समिति में अरुण जेटली, ज्योतिरादित्य सिंधिया और आईपीएल के अंतरिम चेयरमैन चिरायु अमीन शामिल हैं.

तुलजापुरकर का कहना है कि इस समिति के फैसले पर उन्हें भरोसा नहीं है. उनका आरोप है कि बीसीसीआई सचिव एन श्रीनिवासन ने मोदी के खिलाफ पक्षपातपूर्ण फैसला किया है. मोदी का कहना है कि आईपीएल की चेन्नई टीम में श्रीनिवासन की भी हिस्सेदारी है.

रिपोर्टः पीटीआई/ए जमाल

संपादनः ए कुमार