1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

लड़कियों के लिए आगे आईं मिशेल ओबामा

नाइजीरिया में स्कूली बच्चियों का अपहरण हुए तीन हफ्ते से ज्यादा हो गए हैं. अमेरिका, चीन और ब्रिटेन ने मदद शुरू कर दी है. अब मिशेल ओबामा भी सोशल मीडिया के जरिए आगे आई हैं.

मिशेल ओबामा ने ट्विटर पर #BringBackOurGirls का इस्तेमाल करते हुए कहा, "हमारी प्रार्थनाएं लापता नाइजीरियाई लड़कियों और उनके परिजनों के साथ हैं. अब लड़कियों को वापिस लाने का समय है." इस ट्वीट के साथ उन्होंने अपनी एक तस्वीर लगाई है जिसमें वह एक सफेद कागज पर #BringBackOurGirls का संदेश लिए खड़ी हैं.

एकजुट अमेरिका, चीन, ब्रिटेन

नाइजीरिया के पूर्वोत्तर में अगवा की गई लड़कियों का पता लगाने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस अपनी खास टीमें भेज रहे हैं. चीन ने वादा किया है कि वह अपने सैटेलाइट और खुफिया सेवा से जो भी जानकारी मिलेगी नाइजीरिया को देगा.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने चिबुक की घटना को दिल दुखाने वाली और उपद्रवी करार दिया है. उन्होंने घोषणा की है कि नाइजीरिया को बच्चियों की रिहाई करवाने के लिए सैन्य विशेषज्ञों की टीम भेजी जा रही है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने अपहरणकर्ताओं को कुकर्मी करार देते हुए प्लानिंग एंड कोऑपरेशन स्पेशलिस्ट भेजने का वादा किया है. बुधवार को पुलिस ने घोषणा की है कि जो भी व्यक्ति इन लड़कियों की जानकारी देगा उसे तीन लाख डॉलर का इनाम दिया जाएगा. उधर उत्तरी और पूर्वी सीमा से लगे इलाकों में बोको हराम के हमले जारी हैं.

अब तक 1,500 मौतें

कैमरून से लगे गामबोरू नगाला शहर में बोको हराम के बंदूकधारियों ने कई इमारतें गिरा दीं और लोग जब बचने के लिए भागने लगे तो इमारतों में आग लगा दी. इलाके के सीनेटर अहमद जाना के मुताबिक इस हमले में 300 लोग मारे गए हैं.

इस साल बोको हराम के हमलों के कारण 1,500 लोगों की जान पहले ही जा चुकी है. जाना ने बताया कि इस शहर में सैनिक तैनात नहीं हैं क्योंकि उन्हें लेक चैड के इलाके में अगवा लड़कियों की रिहाई के लिए भेजा गया है.

सोमवार को हथियार लिए इस्लामी लड़ाके ट्रकों और मोटरसाइकलों पर सवार गांबोरू नगाला में घुसे. जब वे शहर से बाहर निकले तो कई इलाकों में लाशें बिखरी हुई थीं. सीनेटर ने बताया, "सभी आर्थिक और बिजनेस सेंटर जला दिए गए. जहां पूरे इलाके से व्यापारी आते थे वह भी उन्हें जला दिया है. "

शिक्षा के खिलाफ

200 से ज्यादा लड़कियों को बोको हराम नाम के इस्लामी चरमपंथी गुट ने अप्रैल में अगवा कर लिया था.

इसके बाद भी वह रुका नहीं. उसने फिर 12 से 15 साल की बच्चियों को गवोजा से उठाया. यह गुट पश्चिमी शिक्षा के खिलाफ है. लड़कियों का इसीलिए अपहरण किया गया क्योंकि वे स्कूली शिक्षा प्रापत कर रही थीं.

गवोजा इलाका पहले वाले इलाके चिबोक से ज्यादा दूर नहीं है. नाइजीरिया की सीमा से लगे कैमरून के इलाकों में सुरक्षा के लिए सेना तैनात कर दी गई है. बुधवार को बोर्नो के बुजबुजी इलाके में भी बोको हराम के लड़ाकों ने हमला किया.
एएम/आईबी (एएफपी,रॉयटर्स)

DW.COM