लंबे हो रहे हैं यूरोपीय लोग | विज्ञान | DW | 03.09.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

लंबे हो रहे हैं यूरोपीय लोग

यूरोप के लोगों की कद काठी एशिया के लोगों से बेहतर मानी जाती है. इन्हें न केवल ज्यादा सेहतमंद कहा जाता है, बल्कि लंबाई के मामले में भी ये औरों को मात देते हैं. और ये कद ऐसा है कि बढ़ता ही जा रहा है.

एक नए शोध में कहा गया है कि यूरोपीय पुरुषों का कद सौ साल में औसतन 11 सेंटीमीटर तक बढ़ा है. इस रिसर्च के लिए 19वीं सदी के अंत से अब तक के आंकड़ों की तुलना की गई. नतीजे बताते हैं कि 1870 से 1980 के बीच यूरोप के पुरुषों के कद में सबसे ज्यादा फर्क देखा गया. वैसे तो इसे यूरोप में बढ़ती खुशहाली और बेहतर चिकित्सा सुविधाओं का प्रतीक माना जा रहा है, लेकिन हैरानी की बात ये है कि जिस दौर की रिपोर्ट में बात की गई है, उस दौरान यूरोप दो विश्व युद्धों से गुजरा और उसके बाद महामंदी से भी. ये वो समय है जब यूरोप में गरीबी छाई हुई थी और लोगों को ठीक से खाना भी नसीब नहीं हो रहा था.

मंदी ने बढ़ाया कद

ब्रिटेन यूनिवर्सिटी की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ब्रिटेन, आयरलैंड, नीदरलैंड्स, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, जर्मनी और स्कैंडेनेविया में दोनों विश्व युद्धों और महामंदी के दौरान पुरुषों की लंबाई कुछ ज्यादा ही तेजी से बढ़ी. रिपोर्ट के मुताबिक, "ये हैरान कर देने वाला है क्योंकि खास तौर से ये वो समय है जिसमें राष्ट्रीय चिकित्सा सुविधाओं और आधुनिक मेडिसिन की भारी कमी थी."

रिपोर्ट में इस बात को कुछ ऐसे समझाया गया है कि जब यूरोप के लोग इस मुश्किल दौर से गुजरे तो परिवार का आकार छोटा होने लगा. लोगों के कम बच्चे पैदा करने का असर उनके शरीर पर कुछ इस तरह पड़ा कि धीरे धीरे उनका कद बढ़ने लगा. रिपोर्ट लिखने वाले टिमथी हैटन बताते हैं कि प्रजनन में कमी को पहले भी इंसानों की लंबाई से जोड़ कर देखा जा चुका है.

बस पुरुषों की बात

हालांकि इस रिपोर्ट में केवल यूरोप के पुरुषों की ही बात कही गई है. ऐसा इसलिए क्योंकि पुराने आंकड़े केवल वही हैं, जो सेना ने जमा किए. उन्हीं आंकड़ों को ताजा जमा किए गए आंकड़ों से मिलाया गया. महिलाओं के ऐसे आंकड़े खोज निकालना रिसर्चरों के लिए कोई आसान काम नहीं.

1870 से 1980 के बीच 15 देशों के आंकड़े जमा किए गए. ये सभी 21 वर्षीय पुरुषों के थे. हर देश के नतीजों में थोड़ा फर्क भी पाया गया. मिसाल के तौर पर स्पेन में 1871 से 75 की तुलना में 1971 से 75 के बीच पुरुषों का कद 12 सेंटीमीटर तक बढ़ गया. वहीं स्वीडन के पुरुषों का कद इस दौरान 10 सेंटीमीटर ही बढ़ा.

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि जब यूरोप महामंदी के दौर से निकला और वहां हालात सुधरने लगे तो अच्छे खाने और अच्छी चिकित्सा ने भी अपना असर दिखाया. लोगों में स्वास्थ्य को ले कर जागरूकता बढ़ी, उनकी आय में भी बढ़ोतरी हुई और रहन सहन भी बदला. कुल मिला कर अब यूरोप एक खुशहाल दौर में है और इसका असर अब यूरोप के लोगों के कद पर पड़ता दिख रहा है.

आईबी/एएम (रॉयटर्स)

DW.COM