1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

लंदन प्रदर्शनः प्रिंस चार्ल्स की कार पर हमला

ट्यूशन फी बढ़ाए जाने का बिल पास होने के बाद हिंसक प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने लंदन में प्रिंस चार्ल्स और कैमिला की कार पर हमला कर दिया. प्रिंस के प्रवक्ता एक बयान में यह कहा. संसद ने ट्यूशन फीस बढ़ाने का बिल पास किया.

default

प्रिंस के प्रवक्ता ने हमले की जानकारी देते हुए कहा. हम पुष्टि कर सकते हैं कि हिज हाइनेस की कार पर हमला किया गया. उस समय वह लंदन पैलेडियम की ओर जा रहे थे. लेकिन उन्हें इस हमले में कोई नुकसान नहीं हुआ है. प्रवक्ता ने इससे ज्यादा कोई जानकारी नहीं दी. प्रिंस और कैमिला को लेकर कार बाद में आयोजन स्थल पर सुरक्षित पहुंची.

गुरुवार को ब्रिटेन की संसद ने यूनिवर्सिटी छात्रों की फीस बढ़ाए जाने संबंधी बिल पास किया जिसके बाद से लंदन में भारी हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं. कई प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मी इसमें घायल हुए हैं.

संसद में वोट होते ही प्रदर्शकारियों ने ब्रिटेन के वित्त मंत्रालय पर हमला बोल दिया और जो पुलिस कर्मी इमारत के अंदर थे, उनसे जा भिड़े. रॉयटर्स समाचार एजेंसी ने एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से लिखा है कि विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र कह रहे थे कि उन्हें उनका धन वापस चाहिए.

ट्यूशन फीस बढ़ाना कंजर्वेटिव लिबरल डैमोक्रेट सरकार की पहली परीक्षा है. इसी के साथ सरकार रिकॉर्ड बजट घाटे को कम करने के लिए कड़े कटौती नियम लागू करने वाली है.

Flash-Galerie schöner kalter Winter

जानकारों का कहना है कि इस तरह के हिंसक विरोध प्रदर्शन आने वाले सालों में विरोधों को बढ़ा सकते हैं क्योंकि अगले साल और क्षेत्रों में कटौती, पैसे बचाने की कोशिश की जाएगी.

संसद के निचले सदन ने फीस बढ़ाने संबंधी बिल 21 वोटों से पास किया. सरकार के 27 सासंदों ने इसके विरोध में मत दिया जबकि कुछ ने मतदान ही नहीं किया. नॉटिंघम यूनिवर्सिटी में संसदीय सरकार के प्रोफेसर फिलिप काउले ने कहा, यह कोई पहला विरोध नहीं है और निश्चित ही आखिरी भी नहीं होगा.

जानकारों का कहना है कि गठबंधन टूटेगा तो नहीं लेकिन खर्चों में लगातार कटौती के कारण लिबरल डैमोक्रेट्स का जीवन सरकार में मुश्किल हो जाएगा.

भारी प्रदर्शन

लंदन सहित पूरे देश में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किए. उन्होंने लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी को भी इसके लिए जिम्मेदार ठहराया क्योंकि उन्होंने चुनाव रैलियों में ट्यूशन फी खत्म कर देने का वादा किया था. कुछ प्रदर्शनकारियों ने संसद के सामने पुलिस पर हमला किया. रात में लंदन में प्रदर्शन जारी हैं. एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि बात सिर्फ ट्यूशन फीस की नहीं है बल्कि यह बताने की है कि हम कितने नाराज हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links