1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रोम में नए पोप का चुनाव

कैथोलिक गिरजे के धर्मगुरू पोप बेनेडिक्ट सोलहवें के इस्तीफे के दो हफ्ते बाद आज रोम में नए पोप का चुनाव हो रहा है. नए पोप के चुनाव के लिए कैथोलिक गिरजे के 115 कार्डिनल रोम में इकट्ठा हुए हैं.

आठ साल पहले जब योजेफ रात्सिंगर पोप चुने गए थे तो उन्हें इस पद का दावेदार मना जा रहा है. इस बार जब पोप के चुनाव के अधिकारी 80 साल से कम उम्र के कार्डिनल रोम में मिले हैं तो इस पद का कोई ताकतवर दावेदार नहीं है. बैठक से पहले कार्डिनलों की बैठक में इस बात पर चर्चा हुई है कि नए पोप की जिम्मेदारी क्या होनी चाहिए. इस पर नए पोप का चुनाव निर्भर होगा और इन जिम्मेदारियों को पूरा करने में सक्षम कार्डिनाल का नाम प्रस्तावित हो सकता है.

पोप के चुनाव के लिए कार्डिनाल सम्मेलन मंगलवार शाम शुरू होगा जब निर्वाचन के अधिकारी कार्डिनाल बैठक के लिए विश्व प्रसिद्ध सिसटीन चैपल में प्रवेश करेंगे. बैठक कितने दिनों तक चलेगी यह इस बात पर निर्भर करेगा कि चुनाव कितने चरणों का होता है. चुनाव तब तक किया जाता है जब तक किसी उम्मीदवार को दो तिहाई मत प्राप्त नहीं हो जाते.

Vatikan Papst Nachfolge

कॉनक्लेव की आज से शुरुआत

लेकिन यह तय है कि नए पोप का फैसला मंगलवार को नहीं होगा. यह बात वैटिकन के प्रवक्ता फ्रेडरिको लोम्बार्डी ने साफ कर दी है. अभी यह भी साफ नहीं है कि चुनाव का पहला चरण मंगलवार को होगा या नहीं. लोम्बार्डी ने कहा है कि यदि पहला चरण मंगलवार को होता है तो स्याह धुएं की उम्मीद की जानी चाहिए. चुनाव के हर चरण के बाद मतपत्र जला दिए जाते हैं. सिसटीन चैपल की चिमनी से निकला स्याह धुंआ फैसला न होने की निशानी होता है जबकि सफेद धुआं इस बात का प्रतीक होता है कि नया पोप चुन लिया गया है.

मंगलवार को कार्डिनलों की निर्वाचक मंडली द्वारा चुनाव का पहला चरण कराए जाने का फैसला संभव है, लेकिन ऐसा होना लाजिमी नहीं है. चुनाव का पहला चरण उम्मीदवारों का पता करने का चरण होता है, जिसमें पोप के पद के दावेदारों का पता चलता है. पर्यवेक्षकों का कहना है कि भले ही पोप के पद के प्रबल दावेदारों का नाम सामने न आ रहा हो, लेकिन सम्मेलन की समाप्ति जल्द हो सकती है. कई दिनों से मिलान के आर्चबिशप अंजेलो स्कोला और ब्राजील के कार्डिनाल ओडिलो पेद्रो शेरर का नाम सामने आ रहा है.

1.2 अरब कैथोलिकों के प्रमुख को चुनने रोम पहुंचे कार्डिनलों में 60 मतदाता यूरोप के हैं. उनके पास बहुमत है और वे नए पोप के चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे जिसके लिए एक उम्मीदवार के पक्ष में 77 मतों के साथ आने की जरूरत होगी. हर दिन चुनाव के चार चरण संभव हैं जब तक यह कोरम पूरा नहीं हो जाता और हाबेमुस पापम की घोषणा नहीं हो जाती. सम्मेलन के दौरान कार्डिनल बाहरी दुनिया से पूरी तरह कटे रहेंगे. सिसिटीन चैपल में एक कमरे में लकड़ी का फर्श लगाया गया है जिसपर कार्डिनलों के लिए टेबल रखा जाएगा.

Konklave-Vorbereitungen Schornstein für Papstwahl montiert

काला धुआं या सफेद धुआं

सोमवार को कार्डिनलों ने पोप के निर्वाचन के लिए एक हफ्ते की तैयारी पूरी कर ली. अंतिम सम्मेलन में 150 कार्डिनलों ने हिस्सा लिया जिनमें 80 साल की उम्र से ज्यादा के कार्डिनल भी थे जिन्हें मत देने का अधिकार नहीं है. उन्होंने इस बात पर भी चर्चा की नए पोप को गिरजा चलाने के लिए कौन सी शर्तें पूरी करनी चाहिए. एक हफ्ते तक चली बैठक में चर्च प्रशासन में सुधार, वैटिकन की वित्तीय स्थिति और गिरजे में चल रहे संकट पर चर्चा की. उन्होंने वैटीलीक्स कांड और वैटिकन के अंदर होने वाली साजिशों पर भी चर्चा की.

पोप बेनेडिक्ट ने पिछले 28 फरवरी को इस्तीफा दे दिया था. कैथोलिक गिरजे के इतिहास में वे इस्तीफा देने वाले दूसरे पोप हैं.

एमजे/एएम (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री