रेप पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन | दुनिया | DW | 10.06.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रेप पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन

भारत में बलात्कार के बढ़ते मामलों और बदायूं कांड के बीच संकटग्रस्त क्षेत्रों में यौन हिंसा पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हो रहा है. इसमें संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत एंजेलीना जोली भी शिरकत कर रही हैं.

लंदन में हो रहे इस सम्मेलन में दुनिया भर के 100 देशों के प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं. ये चार दिनों तक चर्चा करेंगे कि किस तरह यौन हिंसा की शिकार बच्चियों और महिलाओं को मदद की जा सकती है. इसमें ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग और अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी भी हिस्सा ले रहे हैं.

लंदन के ईवनिंग स्टैंडर्ड अखबार में केरी ने लिखा कि प्रतिनिधि चाहेंगे कि इतिहास से यौन हिंसा का खात्मा कर दिया जाए, "यौन हिंसा हर देश में फैली है. इसकी वजह से हमारी मानवता कमजोर हुई है."

समझा जाता है कि हेग और जोली बुधवार को एक अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल जारी करेंगे, जिसके तहत संकटग्रस्त क्षेत्रों में बलात्कार जैसे मामलों में कानून और न्याय को मजबूत करने के सुझाव होंगे. गुरुवार को बोको हराम के मुद्दे पर खास सेशन रखा गया है, जिसमें नाइजीरिया और उसके पड़ोसी मुल्कों के विदेश मंत्री भी हिस्सा लेंगे.

Symbolbild Frauen Vergewaltigung Afrika sexuelle Gewalt

अफ्रीका में भी महिलाओं की स्थिति खराब

वे छिप न सकें, भाग न सकें

अप्रैल में बोको हराम ने लगभग 300 स्कूली बच्चियों का अपहरण कर लिया. इस मुद्दे के अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में छाने के बावजूद बच्चियों की रिहाई नहीं हो पाई है. अमेरिकी विदेश मंत्री का कहना है कि सैन्य संघर्ष में यौन हिंसा को प्रमुख अंतरराष्ट्रीय अपराध समझा जाना चाहिए और हर देश को चाहिए कि ऐसे अपराध करने वालों को कोई जगह न दी जाए, "हमें एक हो कर कहना चाहिए कि वे भाग नहीं सकते और हमारे यहां छिप नहीं सकते".

एंजेलीना जोली की फिल्म "इन द लैंड ऑफ ब्लड एंड हनी" देखने के बाद विलियम हेग संकटग्रस्त इलाकों में यौन हिंसा के बारे में गंभीरता से सोचने को विवश हुए. इसके बाद दोनों ने डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो और बोस्निया का दौरा किया. जोली ने 2011 में अपने निर्देशन में पहली बार यह फिल्म बनाई, जिसमें बोस्नियाई युद्ध की पृष्ठभूमि में एक प्रेम कथा चलती है. विदेश मंत्री हेग का कहना है कि दो दशक पहले बाल्कन राष्ट्र बोस्निया में करीब 50,000 महिलाओं का बलात्कार हुआ.

Premiere Maleficent Angelina Jolie Brad Pitt

जोली की फिल्म से हरकत में आए नेता

यह कैसा अपराध

हेग का कहना है, "अगर आज भी महिलाओं को युद्ध के दौरान इस नजरिए से देखा जाता है, तो उन्हें कभी भी बराबरी के दर्जे से नहीं देखा जाएगा. और इस बात को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है."

इस सम्मेलन में कोलंबिया की पत्रकार जीनेथ बेदोया भी हिस्सा ले रही हैं, जो खुद कभी यौन हिंसा का शिकार बन चुकी हैं. उनका कहना है, "इतिहास में यह पहला मौका है कि विश्व सम्मेलन में उस अपराध को रेखांकित किया जा रहा है, जिस पर आम तौर पर अधिकतर देश खामोश रहा करते हैं."

इस सम्मेलन में संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होंगे. यहां 140 कार्यक्रम ऐसे होंगे, जिनमें कोई भी हिस्सा ले सकता है. यहां संगीत, फिल्म और थिएटर जैसे संचार माध्यमों का इस्तेमाल होगा.

एजेए/आईबी (एपी, एएफपी)

संबंधित सामग्री