1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रूस और भारत में सैन्य समझौते की उम्मीद

रूस ने भारत के साथ कुछ नए सैन्य और व्यापार समझौतों पर हस्ताक्षर करने की उम्मीद जताई है. रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेद्वेदेव 21 से लेकर 22 दिसंबर दो दिवसीय भारत यात्रा पर है.

default

रूस के विदेश मंत्री लावरोव

रूस के विदेश मंत्री सरगेई लावरोव नई दिल्ली में राष्ट्रपति मेद्वेदेव के यात्रा की तैयारी करने पहुंचे. भारतीय विदेश मंत्री एसएम कृष्णा से बात करने के बाद उन्होंने कहा, "हमारी बातचीत रूसी राष्ट्रपति की पहली भारत यात्रा पर केंद्रित रही और हम चाहते हैं कि व्यापार, अर्थव्यवस्था, अंतरिक्ष और सैन्य संबंधित कई समझौतों पर हस्ताक्षर करें."

Der indische Außenminister S. M. Krishna

भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा

भारत ने पिछले महीने कहा था कि वह रूस से पांचवी पीढ़ी यानी फिफ्त जेनरेशन के 300 लडा़कू विमान एफजीएफए खरीदेगा. भारत रूस के साथ मिलकर इनका उत्पादन भी करेगा. विशेषज्ञों का मानना है कि इस तरह के एक लड़ाकू विमान का दाम 10 करोड़ डॉलर यानी लगभग पांच अरब रुपए है. रूस में सैन्य विशेषज्ञों का मानना है कि इससे उनके देश की अर्थव्यवस्था को भी फायदा होगा. दिसंबर में मेद्वेदेव की यात्रा के दौरान एफजीएफए से संबंधित समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाएंगे.

उधर भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा का कहना था कि दोनों देश 'एक ही पन्ने पर हैं.' उन्होंने कहा कि भारतीय विदेश नीति में रूस के साथ संबंधों को प्राथमिकता दी जाती है. सितंबर में भारत और रूस ने 30 अरब रुपयों के एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जिसके तहत दोनों देश यातायात के लिए खास विमान के उत्पादन पर साझेदारी करेंगे.

भारत ने रूस के साथ 270 लड़ाकू सुखोई विमानों खरीदने के लिए समझौता किया है. बाकी 126 विमानों की सपलाई के लिए दुनिया भर की कंपनियों ने अपने आवेदन दिए हैं.

रिपोर्टः एएफपी/एमजी

संपादनः एस गौड़

DW.COM