1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

रूस और इंग्लैंड को यूएफा की सख्त चेतावनी

यूरो 2016 में फ्रांस, जर्मनी और स्विट्जरलैंड जैसी मजबूत टीमों ने जीत के साथ शुरुआत की है. लेकिन इंग्लैंड और रूस के फैन्स के उपद्रव ने मेजबान फ्रांस को चिंता में डाल दिया है.

रविवार को कमजोर मानी जाने वाली टीम यूक्रेन ने जर्मनी की हालत खस्ता कर दी. विश्व कप विजेता जर्मनी 2-0 से जीतने में कामयाब रहा, लेकिन टीम के गोलकीपर कप्तान मानुएल नॉयर और डिफेंडर जेरोम बोआटेंग को इसके लिए खासी मेहनत करनी पड़ी.

इसके पहले फ्रांस में आयोजन स्थल के बाहर हुई हिंसा में कई लोगों के गंभीर रूप से घायल हुए. यूनियन ऑफ यूरोपीयन फुटबॉल एसोसिएशंस (यूएफा) ने फैन्स की उत्पात के चलते रूस और इंग्लैंड को यूरो2016 से बाहर निकाल देने की चेतावनी दी. हालांकि उसने माना कि स्टेडियम की सुरक्षा व्यवस्था में भी कमी थी.

इस बीच फ्रांस सरकार ने बताया है कि उन्होंने चैंपियनशिप की शुरुआत से अब तक हूलिगन हिंसा से जुड़े 63 लोगों को गिरफ्तार किया है. सरकार ने पुलिस को स्टेडियम के आसपास मैच के एक दिन पहले से ही शराब की बिक्री और सेवन पर रोक लगाने के नए अधिकार भी दिए हैं.

Symbolbild England Fußball Stadion Gewalt Sicherheit Sitzplätze

दंगारोधी पुलिस की तैनाती

यूएफा को चेतावनी तब देनी पड़ी जब तीन दिनों तक फ्रांस के मार्से में रूसी और इंग्लिश फैन्स के बीच हिंसक झड़पें होती रहीं और रविवार के मुकाबले से पहले जर्मनी के हूलिगंस भी वहां सड़कों पर मारपीट में कूद गए. खासतौर पर इंग्लैंड-रूस के मैच के ड्रॉ होने के बाद हिंसा बहुत बढ़ गई. इसमें 35 लोगों के घायल होने की खबर है, जिनमें से तीन की स्थिति गंभीर बनी हुई है.

सन 1998 के फुटबॉल विश्व कप के बाद से इस फ्रांसीसी शहर में हुई यह सबसे हिंसक झड़प है. 18 साल पहले मार्से में ही इंग्लिश और ट्यूनिशियन फैन्स टकराए थे और बड़े स्तर पर हिंसा हुई थी.

यूएफा को इस बात की आशंका है कि भविष्य में होने वाले मुकाबलों में फिर से किसी खास देश के फैन्स आपस में भिड़ सकते हैं, जिसे देखते हुए उसने इससे सख्ती से निपटने का फैसला किया है. रूस के खिलाफ आरोप जड़ते हुए यूएफा ने कहा कि उसके फैन्स ने काफी अव्यवस्था फैलाई, नस्लभेदी बर्ताव किया, साथ ही मार्से स्टेडियम में पटाखे और रॉकेट दागे थे.

स्टेडियम में सुरक्षा व्यवस्था को सुधारने की जरूरत पर भी बल दिया गया. एक महीने चलने वाले इस यूरोपीय चैंपियनशिप यूरो2016 में 24 देशों की फुटबॉल टीमें हिस्सा ले रही हैं.

फ्रेंच शहर लिले में जर्मनी-यूक्रेन मैच के पहले जर्मन फुटबॉल फैन्स और यूक्रेन के समर्थकों में मारपीट हुई. जर्मनी के 50 से भी अधिक हूलिगंस इस लड़ाई में शामिल बताए गए हैं. हालात पर काबू करने के लिए 1,200 से भी अधिक दंगा पुलिस को जद्दोजहद करनी पड़ी और बाद में भीड़ पर नियंत्रण के लिए आंसू गैस भी छोड़नी पड़ी.

DW.COM

संबंधित सामग्री