1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रूसी प्लेन क्रैश: आतंकी हमला या भूल का नतीजा?

या तो पायलट से भूल हुई या कोई तकनीकी खराबी आई, मगर रूसी ट्रांसपोर्ट मंत्री काला सागर में क्रैश हुए विमान को आतंकी कार्रवाई नहीं मानते. रविवार सुबह क्रैश हुए रूसी सेना के विमान टीयू-154 के सभी 92 लोग मारे गए हैं.

सोमवार को रूस में प्लेन क्रैश में मारे गए पीड़ितों की याद में राष्ट्रीय शोक मनाया जा रहा है. दक्षिण रूस के सोची शहर से उड़ान भरने के केवल 2 मिनट बाद ही दुर्घटनाग्रस्त हुए इस रूसी विमान में रूसी सेना के विश्वप्रसिद्ध कॉयर के गायक और संगीतकार सवार थे. इसके अलावा नौ रूसी पत्रकार और युद्धग्रस्त इलाकों में जाकर घायलों की मदद करने वाला एक जाना माना डॉक्टर भी था.

रूसी रक्षा मंत्रालय ने बताया है कि काला सागर में क्रैश हुए इस विमान से लोगों को बचाने में 32 जहाजों पर सवार होकर 3,000 से भी अधिक बचावकर्मी लगे हुए हैं. इनमें 100 से भी अधिक गोताखोर हैं, जो समुद्र के भीतर और तटीय इलाके में लोगों की खोज में जुटे हैं. हेलिकॉप्टर, ड्रोन और पानी के नीचे चलने वाली खास सबमर्सिबिल नावों की भी मदद ली जा रही है.

ट्रांसपोर्ट मंत्री माक्सिम सोकोलोव ने सोमवार को टीवी पर दिए एक बयान में कहा कि जांचकर्ताओं को यह हादसा कोई आतंकवादी गतिविधि नहीं बल्कि तकनीकी खराबी या पायलट की चूक का नतीजा लगता है. वहीं कई विमानन विशेषज्ञ मानते हैं कि आतंकी हमले की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता क्योंकि क्रू ने विमान में आई किसी गड़बड़ी की रिपोर्ट नहीं की थी.

यह विमान रक्षा मंत्रालय के कॉयर आलेक्जेंड्रोव ऑनसॉम्बल को नए साल की पूर्वसंध्या पर अपना कार्यक्रम पेश करने के लिए सीरिया के लताकिया में रूसी एयर बेस तक ले जाने वाला था. विमान रूसी राजधानी मॉस्को के एक सैन्य हवाई अड्डे से उड़ा और सोची में ईंधन भरवाने के लिए रुका था.

Russland Chor der Roten Armee - Alexandrow-Ensemble (Reuters)

विमान में सवार रूसी सेना के विश्वप्रसिद्ध कॉयर आलेक्जेंड्रोव ऑनसॉम्बल के सदस्य भी मारे गए.

रविवार को क्रैश हुए विमान के कुछ हिस्से तट से 1.5 किलोमीटर की दूरी पर मिले लेकिन रक्षा मंत्री ने बताया है कि विशेषज्ञों के अनुसार क्रैश तट से करीब 6 किलोमीटर की दूरी पर हुआ होगा. सोमवार सुबह तक भी बचाव दल को केवल 11 शरीर और कुछ केवल अंग मिले हैं. इन्हें मॉस्को लाया जा चुका है और अभी इनकी शिनाख्त होनी बाकी है.

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने टीवी पर देश को दिए संदेश में मृतकों की याद में राष्ट्रीय शोक की घोषणा की. सोची के एडलर एयरपोर्ट के चर्च में भी मोमबत्तियां जलाकर और फूल चढ़ाकर हादसे में मारे गए लोगों के लिए शोक जताया गया.

टीयू-154 एक सोवियत काल में बना विमान है. तीन इंजनों वाला यह मॉडल 1960 के दशक के अंत में डिजाइन हुआ था. ऐसे 1,000 से भी अधिक विमान बनाए गए थे और सालों से रूस और विश्व भर में इनका खूब इस्तेमाल हुआ है. इस बार क्रैश हुआ विमान 1983 में बना था और 2014 में इसकी अंतिम बार पूरी जांच और मरम्मत हुई थी.

काला सागर के करीब 10 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में जांच चल रही है. इस इलाके में अंडरवॉटर करंट इतना तेज है कि वह विमान के मलबे और शवों को बहाकर बहुत दूर सागर ले जा सकता है. मंत्री माक्सिम सोकोलोव ने बताया है कि प्लेन के फ्लाइट रिकॉर्डर्स में रेडियो बीकन नहीं थे इसलिए समुद्र की तली में पहुंच गए हिस्सों को ढूंढ पाना काफी चुनौतिपूर्ण होने वाला है.

माना जा रहा है कि रूसी ट्रांसपोर्ट मंत्री के इस क्रैश के पीछे आतंकी हमले की संभावना को कम करके बता रहे हैं जबकि हाल के सालों में कई बार रूसी विमानों को आतंकी हमले का निशाना बनाया गया है. अक्टूबर 2015 में ज्यादातर रूसी पर्यटकों को मिस्र से वापस रूस ले जा रहे एक विमान को सिनाई के पास एक हमले में निशाना बनाया गया था. इस पर सवार सभी 224 लोग मारे गए थे और बाद में इस्लामिक स्टेट के स्थानीय समर्थक गुट ने हमले की जिम्मेदारी ली थी.

आरपी/वीके (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री