1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

रुचिका मामले में सीबीआई को फटकार

रुचिका गिरहोत्रा छेड़छाड़ मामले में पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने सीबीआई को फटकार लगाई है और मामले के दोषी हरियाणा के पूर्व डीजीपी एसपीएस राठौड़ के खिलाफ लंबित तीनों मामलों की जांच रिपोर्ट सौंपने को कहा है.

default

राठौड़ को 17 साल पहले एक उभरती हुई टेनिस खिलाड़ी रुचिका को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का दोषी ठहराया जा चुका है. शुक्रवार को राठौड़ को चंडीगढ़ की बुड़ैल जेल से रिहा किया गया. जेल में डाले जाने के छह महीने बाद सुप्रीम कोर्ट ने उसे जमानत दे दी. दरअसल सीबीआई ने राठौड़ के खिलाफ तीन में से दो मामलों को बंद करने को कहा.

अब हाई कोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी कर पूछा है कि किस आधार पर उसने दो मामलों को बंद कर दिया. साथ ही यह भी बताने को कहा है कि तीसरे मामले में जांच कहां तक पहुंची है.

अदालत ने हरियाणा सरकार से भी पूछा है कि राठौड़ के खिलाफ छेड़छाड़ के गंभीर आरोप होते हुए क्यों डीजीपी के पद पर उसका प्रमोशन किया गया. सीबीएसई बोर्ड को अदालती नोटिस मिला है जिसमें उससे रुचिका के स्कूल के खिलाफ अगर कोई कार्रवाई की गई है, तो उसका ब्यौरा देने का कहा गया है. स्कूल पर राठौड़ के कहने पर रुचिका को स्कूल से निकालने का आरोप है.

मामलों को बंद करने की रिपोर्ट अंबाला में सीबीआई की अदालत के सामने पेश की गई जिस पर विचार किया जाना बाकी है. सीबीआई अदालत ने गिरहोत्रा को भी नोटिस दिया है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः प्रिया एसेलबोर्न

DW.COM

WWW-Links